लद्दाख में तिब्बती झंड़ा फहराए जाने को लेकर भड़का चीन, लगाए ये आरोप

लद्दाख

सिक्किम सीमा पर जारी तनातनी के बीच चीन अब सरकारी मीडिया का सहारा लेकर लद्दाख में तिब्‍बत की निर्वासित सरकार द्वारा झंडा फहराए जाने का विरोध करने में जुटा हुआ है.

ग्‍लोबल टाइम्‍स में इस संबंध में एक लेख छपा है, जिसमें यह भी आरोप लगाया गया है कि तिब्‍बती अलगाववादियों को ऐसा करने के लिए भारतीय अधिकारियों ने उकसाया है, क्‍योंकि वे चीन पर दबाव बनाना चाहते हैं.

गौरतलब है कि झंडा बैंगांग झील के पास फहराया गया, जिसे भारत में पैंगांग झील कहा जाता है. यह चीन-भारत की सीमा रेखा के बेहद करीब है.

वैसे लेख में भले ही भारतीय अधिकारियों पर तिब्‍बती अलगाववादियों को उकसाने का आरोप लगाया गया है, मगर लेखक यू निंग ने यह भी स्‍पष्‍ट तौर पर कहा है कि इसको लेकर कोई सबूत नहीं है.

हालांकि तिब्‍बत कार्ड का इस्‍तेमाल करने का भारत पर आरोप लगाया है. कहा है कि भारत सार्वजनिक तौर पर भारतीय क्षेत्र में तिब्‍बतियों द्वारा किसी भी तरह की चीनी विरोधी गतिविधियों की अनुमति नहीं दिए जाने का वादा करता है. मगर चीन से निपटने के लिए एक राजनयिक कार्ड के तौर पर लंबे समय से तिब्‍बत का इस्‍तेमाल करता रहा है.

लेख ने यह भी कहा है कि सिक्किम सीमा पर चल रही तकरार को देखते हुए भारत सरकार को तनावपूर्ण माहौल से बचने के लिए विवेकपूर्ण ढंग से काम करना चाहिए. अपने क्षेत्र में तिब्‍बतियों और चीन विरोधी गतिविधियों को नियंत्रित करने की जिम्‍मेदारी भारत की है.

Share With:
Rate This Article