अहमदाबाद को मिला वर्ल्ड हेरिटेज सिटी का दर्जा, PM बोले-‘देश के लिए खुशी का मौका’

अहमदाबाद अब वर्ल्ड हेरिटेज सिटी बन गई है। यूनेस्को से यह दर्जा पाने वाला यह देश का पहला शहर है. इस पर मोदी ने रविवार को ट्विटर पर लिखा- यह देश के लिए खुशी का मौका है. यूनेस्को की 41वें सेशन की पोलैंड के क्राको शहर में हुई मीटिंग में यह एलान किया गया.

अहमदाबाद में हिंदू, इस्लामिक और जैन धर्मों के लोगों के एक साथ बसने और यहां के बेहतरीन आर्किटेक्चर की वजह से इसका सिलेक्शन हुआ. अहमदाबाद में आर्कियोलाॅजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के प्रोटेक्शन वाली 26 साइट्स हैं. सैकड़ों पोल हैं. महात्मा गांधी भी यहां 1915 से 1930 के दौरान रहे. यहां उनकी यादों को समेटे कई स्थान हैं.

अहमदाबाद के सिलेक्शन का तुर्की, लेबनान, ट्यूनीशिया, पेरू, कजाकिस्तान, फिनलैंड, जिम्बॉब्वे और पोलैंड समेत 20 देशों ने समर्थन किया. यूनेस्को ने अपने नोट में लिखा, “15 वीं सदी में सुल्तान अहमद शाह का बसाया अहमदाबाद साबरमती नदी के पूर्वी तट पर बसा है. इस शहर में आर्किटेक्ट के बेहतरीन उदाहरण हैं, जैसे- भद्रा गढ़ा, किले की दीवारें और उसके गेट, यहां कई मस्जिदें और मकबरें हैं, वहीं बाद के समय में बने कई हिंदू और जैन मंदिर भी हैं”.

दुनिया में 287 वर्ल्ड हेरिटेज सिटी हैँ. इनमें से सिर्फ दो इंडियन सब-कॉन्टीनेंट में हैं. एक नेपाल में भक्तपुर और दूसरी श्रीलंका में गाले.
अहमदाबाद को हेरिटेज सिटी का दर्जा मिलने के बाद यहां टूरिज्म बढ़ने की उम्मीद है.
Share With:
Rate This Article