पश्चिम बंगाल: बसीरहाट हिंसा का मुआयना करने जाएंगे बीजेपी के तीन सांसद

बसीरहाट

फेसबुक की विवादित पोस्ट के बाद पश्चिम बंगाल के बसीरहाट में भड़की हिंसा के तीसरे दिन गुरुवार को 65 वर्षीय एक शख्स की चाकू मार हत्या कर दी गई है. वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में संदिग्ध बांग्लादेशी घुसपैठियों द्वारा की गई हिंसा की तहकीकात के लिये तीन सांसदों का दल भेजने का निर्णय लिया है.

बसीरहाट के भयबला में रहने वाले कार्तिक घोष जब बुधवार को मार्किट से शॉपिंग करके मोटरसाइकिल पर घर लौट रहे थे तो उन पर चाकू से हमला किया गया था. इसके बाद आज उनकी मौत हो गई. पश्चिम बंगाल में तीन दिनों से भड़की हिंसा में यह पहली मौत है. बसीरहाट बांग्लादेश बॉर्डर से 12 किलोमीटर दूर स्थित है. अभी तक हिंसा में 23 लोग घायल हो चुके हैं.

बसीरहाट सांप्रदायिक हिंसा और बम विस्फोटों की घटना की रिपोर्ट को संज्ञान में लेते हुए केन्द्र सरकार ने राज्य सरकार एवं केन्द्रीय एजेंसियों को सीमा पार के अपराधी तत्वों की संलिप्तता की जांच करने को कहा है.

सूत्रों के अनुसार ऐसी रिपोर्ट हैं कि सीमा पार से कुछ समूहों ने घुसकर बादुरिया में एक फेसबुक पोस्ट के कारण सांप्रदायिक तनाव का फायदा उठाकर हिंसा भड़काने का प्रयास किया है. सीमा सुरक्षा बल की चार कंपनियों को प्रशासन की मदद के लिये तैनात किया गया है और पुलिस को सीमावर्ती इलाकों में चौकसी बनाये रखने की हिदायत दी गयी है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की हिंसा की तहकीकात के लिए मीनाक्षी लेखी, सत्यपाल सिंह और ओम माथुर का तीन सदस्यीय दल गठित किया है.

सूत्रों ने बताया कि पश्चिम बंगाल के प्रभारी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष भी इस दल के साथ समन्वय स्थापित करेंगे. विजयवर्गीय ने बुधवार को केन्द्रीय गृहमंत्री को पत्र लिख कर उन्हें पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में संदिग्ध बंगलादेशी घुसपैठियों द्वारा घरों पर हथियारों एवं बमों से हमला एवं महिलाओं से बलात्कार किये जाने की जानकारी देते हुए केन्द्र सरकार के हस्तक्षेप का आग्रह किया था.

पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने पार्टी लाइन से हटकर राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को ‘भला इंसान’ बताते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से सवाल किया है कि उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि राज्यपाल ने उन्हें किस तरह से अपमानित किया और धक्का पहुंचाया है.

कांग्रेस नेतृत्व को इस बयान से पशोपेश में डालने वाले चौधरी ने कहा है, ‘हम जानना चाहते हैं कि क्या बनर्जी राज्यपाल के व्यवहार से सचमुच सकते में है. उन्हें यदि ठेस पहुंचाई गई है तो हम इसका विरोध करेंगे. मैं जानता हूं कि राज्यपाल बहुत भले इंसान हैं.’

Share With:
Rate This Article