विवाद खत्म करने के लिए अरब देशों ने कतर को दिया और 48 घंटे का अल्टीमेटम

सऊदी अरब और तीन दूसरे अरब मुल्कों ने कतर को अपने शर्तों की सूची मानने के लिए दी गई समय सीमा को 48 घंटों के लिए बढ़ा दिया है. 13 शर्तों की इस सूची के लिए आखिरी समय सीमा इससे पहले रविवार को समाप्त हो गई थी.
इन शर्तों में समाचार चैनल अल जजीरा को बंद करने की भी एक शर्त रखी गई है. अल जजीरा कतर सरकार का टीवी चैनल है. सऊदी अरब, मिस्र, यूएई और बहरीन ने कतर पर कड़े प्रतिबंध लगा रखे हैं. उनका आरोप है कि कतर चरमपंथ को आर्थिक मदद करता है. जबकि कतर ने इस आरोप को मानने से इंकार किया है.

कतर ने कहा है कि वो सोमवार को इसका औपचारिक जवाब कुवैत को भेजे गए एक खत में देगा. कुवैत इस मामले में मध्यस्थ की भूमिका में है. कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-ताहिनी ने शनिवार को कहा कि कतर ने शर्तों को मानने से इंकार कर दिया है, लेकिन सही माहौल में वो बातचीत करने को तैयार है.

पिछले दो हफ्तों से कतर सऊदी अरब और दूसरे सहयोगी राष्ट्रों की ओर से अभूतपूर्व राजनयिक और आर्थिक नाकेबंदी का सामना कर रहा है. 23 जून को इन चार देशों ने कतर को शर्तों को मानने के लिए दस दिनों का वक्त दिया था. इसमें तुर्की में मौजूद सैन्य ठिकाने को बंद करने और ईरान के साथ कुटनीतिक रिश्ते खत्म करने की भी मांग शामिल है. मौजूदा संकट में ईरान और तुर्की कतर को खाना और दूसरे सामानों की आपूर्ति कर रहे हैं.

Share With:
Rate This Article