गुजरात: मोडासा में पीएम मोदी ने दो जल परियोजनाओं का किया उद्घाटन

अहमदाबाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुजरात दौरे का आज दूसरा दिन है. पीएम मोदी ने शुक्रवार को मोडासा में दो जल परियोजनाओं का उद्घाटन किया. मोदी ने यहां अरावली में एक वाटर सप्लाई स्कीम की शुरुआत भी की है. इसके अलावा पीएम मोदी ने आदिवासी और युवाओं को भी संबोधित किया.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मोडासा से मेरा पुराना नाता है. मालपुर मोधरज पुरा रूट घूमते-घूमते यहां के लोगों के साथ जूड़ने और जीने का मौका मिला है. आज जब पानी कि इतनी बड़ी योजना अपने घर आंगन आयी है तब जिंदगी में जितनी दिवाली मानायी हैं इतनी सभी दिवाली को इकट्ठा मनाने का मौका है.

पीएम मोदी ने कहा कि जब भी बीजेपी को गुजरात की जनता की सेवा करने का मौका मिला है, चाहे वो केशुभाई हो या आंनदी बेन हो, विजय भाई हो या में खुद हूं, आप एक बात देखना बीजेपी ने जितनी सरकार बनायी और आपने जितना समय बीजेपी को सेवा करने का मौका दिया हमने कभी ऐसा-वेसा काम नहीं किया, कभी काम में लापरवाही नहीं की.

गुजरात के विकास मॉडल का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि पूरे देश में गुजरात के विकास मॉडल की चर्चा इसलिए होती है क्योंकि हमारी सरकार ने कभी थोड़े वक्त के राजनीतिक स्वार्थ वाले लोगों की तरह काम नहीं किया, हमने हमेशा लीपापोती वाले काम को छोड़ मजबूती के साथ काम किया है.

मोदी ने कहा कि गुजरात का सर्वांगीण विकास करना है तो गुजरात के कोने-कोने में पानी बहाकर ही गुजरात का विकास होगा. वो सपना हमने देखा है. उन्होंने कहा कि इस राज्य की युवा पीढ़ी को शिक्षित करने का जिम्मा उठाया है. पीएम मोदी ने कहा कि पानी और बिजली की किल्लत से यहां की जनता ने काफी दिक्कतें झेली हैं और अब उसे दूर करना चाहते हैं.

केंद्र सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अब किसान को वो मजबूरी की जिंदगी जीने की जरूरत नहीं है, सरकार की ईनाम योजना के तहत व्यवस्था की गई है कि किसान अपने मोबाइल से ही देश की 400 मंडियों से जुड़ सकता है. किसान जिस भी राज्यों में फसल के दाम ज्यादा हों, वहां जाकर अपनी फसल बेच सकता है. अब किसान खुद अपनी फसल के दाम तय कर रहा है.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की उपलब्धि बताते हुए मोदी ने कहा कि यह ऐसी योजना है जिसे मेरे देश का किसान सुरक्षित महसूस कर पायेगा. अब तक जो भी फसल बीमा योजना आयीं वो बेंकों के लोन के इर्दगिर्द रहती थी, लेकिन प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ऐसी है जिसमें किसान ने 100 रुपये का प्रीमियम हो तो सिर्फ 5 रुपये किसान को देने होंगे और 95 रुपये राज्य सरकार देगी.

Share With:
Rate This Article