DDA Housing Scheme 2017 लॉन्च हुई, 12072 फ्लैटों के लिए करें आवेदन

दिल्ली

डीडीए की हाउजिंग स्कीम-2017 शुक्रवार को लॉन्च हो गई है. इस बार स्कीम में 12,072 फ्लैट्स हैं. स्कीम में आवेदन करने वाले फॉर्म में एक और कॉलम आधार को जोड़ा गया है, लेकिन यह साफ नहीं किया गया है कि आधार जरूरी नहीं है. स्कीम के लिए सबसे अधिक 4,349 फ्लैट रोहिणी सेक्टर-34 और 35 में हैं. स्कीम में 87 फ्लैट एचआईजी के भी रखे गए हैं.

फार्म 11 अगस्त तक जमा कराए जा सकेंगे. ड्रॉ तीन माह में निकाला जाएगा. एलआइजी एवं जनता श्रेणी के लिए पंजीकरण शुल्क एक लाख रुपये होगा, जबकि एमआइजी और एचआइजी के लिए दो लाख रुपये होगा. आवेदन फॉर्म की बिक्री और योजना से संबंधित लेनदेन के लिए आठ बैंकों से करार किया गया है.

सूत्रों के मुताबिक, इस स्कीम के 350 फ्लैट ही दो बेड रूम वाले यानी एमआइजी हैं, जबकि शेष एक बेडरूम वाले एलआइजी और जनता फ्लैट हैं. अधिकतर की कीमत 14.50 लाख रुपये से शुरू होकर 16 लाख रुपये तक है.

इनमें से कुछ फ्लैट 30 लाख रुपये तक की कीमत वाले भी हैं. जनता फ्लैटों की कीमत 7.50 लाख रुपये से शुरू होकर 12.50 लाख रुपये तक की होगी. एमआइजी फ्लैटों की कीमतें 31 लाख से 50 लाख रुपये तक होगी.

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 30 लाख रुपये तक के फ्लैट पर सरकार की ओर से बैंक लोन में सब्सिडी की व्यवस्था की गई है. हालांकि फ्लैट खरीदने वालों के पास दोनों विकल्प रहेंगे. वे चाहें तो अपना फ्लैट प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लें और चाहें तो सामान्य श्रेणी में.

इस बार डीडीए ने गैर गंभीर खरीदारों पर लगाम लगाने और बाजार की अटकलों की जांच करने के लिए इस बार कई स्तरों पर जुर्माना लगाने की व्यवस्था भी की है.

मसलन, अगर कोई भावी खरीदार ड्रॉ निकलने की तारीख से पहले अपना आवेदन वापस लेता है तो उसके पंजीकरण शुल्क से कोई राशि काटी नहीं जाएगी. लेकिन अगर कोई खरीदार ड्रॉ तारीख के बाद और मांग पत्र जारी होने से पहले ऐसा करता है तो पंजीकरण शुल्क की 25 फीसदी राशि जब्त हो जाएगी.

इसी तरह अगर मांग पत्र जारी होने के बाद लेकिन 90 दिनों के भीतर फ्लैट लौटाया जाता है तो 50 फीसदी शुल्क जब्त किया जाएगा और इसकी बाद की अवधि के लिए पूरा पंजीकरण शुल्क जब्त किया जाएगा.

Share With:
Rate This Article