दिल्ली के 55 में से 43 मैकडॉनल्ड्स आउटलेट्स 29 जून से हो गए बंद

दिल्ली

कनॉट प्लाजा रेस्ट्रान्ट्स प्राइवेट लिमिटेड बोर्ड में चल रही कलह के चलते दिल्ली में मशहूर फास्ट फूड चेन मैकडॉनल्ड के 50 में 43 रेस्तरां अस्थाई तौर पर बंद हो गए हैं.

गुरुवार को सीपीआरएल बोर्ड ने एक बड़ा कदम उठाते हुए दिल्ली में चल रहे 55 से 43 मैकडॉनल्ड्स रेस्तरां को गुरुवार से बंद करने का फैसला कर लिया. कनॉट प्लाजा रेस्त्रां (सीपीआरएल), विक्रम बक्शी और अमेरिकी मैकडोनाल्ड के बीच 50-50 फीसद साझेदारी का ज्वाइंट वेंचर है. यह उत्तर और पश्चिम भारत में फास्ट फूड चेन का संचालन करते हैं.

सीपीआरएल के पूर्व प्रबंध निदेशक विक्रम बक्शी जो 168 रेस्त्रां का संचालन करते हैं ने कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन 43 रेस्त्रां का संचालन अस्थायी रूप से बंद किया जा रहा है. विक्रम बक्शी अपनी पत्नी सहित सीपीएरएल बोर्ड में है. अमेरिका के इलिनोय की कंपनी मैकडॉनल्ड और उसके 50:50 हिस्सेदारी वाले जॉइंट वेंचर कनॉट प्लाजा रेस्ट्रान्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच लंबे समय से अंतरकलह चल रही है.

आउटलेट्स बंद करने का एलान बुधवार की सुबह स्काइप के जरिए हुई बोर्ड बैठक के दौरान लिया गया. रेस्तरां को अस्थायी तौर पर बंद किए जाने की वजह के बारे में दोनों सहयोगियों ने कुछ भी कहने से मना कर दिया है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, बख्शी और मैकडॉनल्ड्स के बीच चल रही लड़ाई के बीच सीपीआरएल आवश्यक स्वास्थ्य लाइसेंस रिन्यू कराने में असफल हो गई है.

अगस्त 2013 में बख्शी को सीपीआरएल के प्रबंध निदेशक पद से हटा दिया गया था. इसके बाद बख्शी और मैकडॉनल्ड्स के बीच लंबी कानूनी लड़ाई शुरू हो गई, जिसमें उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी फास्ट फूड चेन को कंपनी लॉ बोर्ड में घसीट लिया.

इस मामले में बोर्ड का फैसला अभी नहीं आया है. मैकडॉनल्ड्स लंदन कोर्ट ऑफ इंटरनैशनल आर्बिट्रेशन में बख्शी के खिलाफ मुकदमा लड़ रही है. वेस्टलाइफ डेवलपमेंट लिमिटेड ने अपनी सब्सिडियरी हार्डकासल रेस्टोरेंट्सप्राइवेट लिमिटेड (HRPL) के जरिए पश्चिम और दक्षिण भारत में मैकडॉनल्ड्स ब्रांड के तहत बिजनेस के मास्टर राइट्स लिए हुए हैं. कंपनी अभी 242 रेस्टोरेंट्स चला रही है.

Share With:
Rate This Article