शिमला: शहीद के परिवार का सरकार पर आरोप, न नौकरी दी और न पांच लाख

मणिपुर में शहीद हुए असम राइफल्स के जवान के परिजनों से सरकार ने वादे तो कई किए थे मगर न राहत राशि दी न ही नौकरी। हिमाचल के शाहतलाई के शहीद बलदेव कुमार शर्मा के बेटे विवेक कुमार शर्मा ने कहा है कि हिमाचल सरकार ने उनके परिवार को राहत देने का अपना वादा पूरा नहीं किया।

विवेक ने शिमला में पत्रकार वार्ता की। शहीद की बेटी प्रियंका शर्मा ने भी सरकार पर अनदेखी का आरोप लगाया। विवेक ने कहा कि उनके पिता पिछले साल मई में मणिपुर हमले में शहीद हो गए थे। उस वक्त राज्य सरकार के तमाम प्रतिनिधियों ने उनके परिवार के लिए बड़े-बड़े वादे किए थे। नौकरी देने और आर्थिक राहत देने की बात करने के अलावा शाहतलाई में स्थानीय स्कूल का नामकरण तक उनके नाम से करने का वादा किया था।

दरअसल, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता एवं सैनिक कल्याण मंत्री कर्नल धनीराम शांडिल उनके घर गए थे। उनसे सरकारी नौकरी देने और पांच लाख रुपये की राहत देने का वादा किया था। सरकार से केवल डेढ़ लाख रुपये की राहत मिली और कोई सरकारी नौकरी नहीं मिली है।

Share With:
Rate This Article