श्रीखंड महादेव यात्रा से जुड़ी पूरी डीटेल, जानने के लिए क्लिक करें

भारतवर्ष की सबसे कठिनतम धार्मिक यात्राओं में से एक श्रीखंड महादेव यात्रा 15 से 30 जुलाई तक आयोजित की जाएगी। 25 जुलाई को श्रद्धालुओं का अंतिम जत्था भेजा जाएगा, जो 30 जुलाई को लौट आएगा। यात्रा से पूर्व 6 जुलाई को निरमंड से पारंपरिक अंबिका माता की छड़ी श्रीखंड महादेव के दर्शन करेगी।

कुल्लू जिला स्थित करीब साढ़े 18 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव तक पहुंचने में श्रद्धालुओं को करीब 32 किलोमीटर कठिन पैदल रास्ता तय करना पड़ता है। इस बार अधिक बर्फ जमा होने से यात्रा में तैनात दो रेस्क्यू दल श्रीखंड महादेव के रास्ते का पूरा मुआयना करेंगे।

उपायुक्त कुल्लू यूनुस ने बताया कि जुलाई प्रथम सप्ताह में ये दोनो दल श्रीखंड के रास्तों का मुआयना करेंगे और रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट के बाद यात्रा को आसान बनाने के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने तमाम श्रद्धालुओं से अपील की है कि चोरी छिपे इस जोखिम भरी यात्रा को न करें।

उन्होंने कहा कि यात्रा को सुलभ बनाने के लिए कारगर कदम उठाए जाएंगे। क्षेत्र में हवाई सेवाओं की संभावनाओं को तलाशा जाएगा। संभव होगा तो हैलीकाप्टर सेवाएं दी जाएंगी। उधर, श्रीखंड यात्रा एवं ग्राम सुधार समिति के अध्यक्ष डीआर कश्यप ने बताया कि निरमंड में श्रद्धालुओं के लिए ठहरने और भंडारे का इंतजाम किया जाएगा।

100 रुपये लगेगी पंजीकरण फीस
इस बार प्रति यात्री पंजीकरण फीस सौ रुपये की गई है। यात्री पंजीकृत मेडिकल संस्थान से अपना स्वास्थ्य फिटनेस प्रमाणपत्र ला सकते हैं। बिना फिटनेस श्रद्धालु यात्रा में हिस्सा नहीं ले सकते।

Share With:
Rate This Article