अब स्वर्ण मंदिर में सोलर एनर्जी से बनेगा खाना

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने वायु प्रदूषण को कम करने के लिए अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में गुरु राम दास लंगर हॉल में सौर ऊर्जा का उपयोग करके भोजन तैयार करने का फैसला लिया । वर्तमान में, तरल पेट्रोलियम गैस (एलपीजी) और लकड़ी की छड़ें खाना पकाने के लिए ईंधन के रूप में उपयोग की जाती हैं।

मुंबई स्थित एनपेर ग्रुप की एक निजी कंपनी ने पंजाब ऊर्जा विकास एजेंसी के माध्यम से स्वर्ण मंदिर को 1.5 करोड़ रूपये की सौर ऊर्जा प्रणाली देने का स्वागत किया है।

प्रणाली लंगर हॉल के नए निर्माण वाले हिस्से में स्थापित की जाएगी, जिसे दुनिया का सबसे बड़ा समुदाय रसोईघर कहा जाता है। पीईडीए के निदेशक बलौर सिंह ने कहा कि सिस्टम तैयार करने वाली भाप का उपयोग भोजन की तैयारी के लिए किया जाएगा। पूर्व PEDA अध्यक्ष और एसजीपीसी के सदस्य भाई मनजीत सिंह ने कहा कि, नई प्रणाली के साथ, लकड़ी और एलपीजी की खपत कम हो जाएगी जिससे इस क्षेत्र में वायु प्रदूषण कम हो जाएगा। इसके अलावा, खाना तैयार करने में कम समय लगेगा।

Share With:
Rate This Article