जल्‍द ही नए अंदाज में नजर आएंगी राजधानी और शताब्‍दी ट्रेनें, मिलेंगी ये सुविधाएं

दिल्ली

भारतीय रेलवे देश की प्रीमियर ट्रेन राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस को नया लुक देने के काम में जुट गया है. इन ट्रेनों में केटरिंग, स्टाफ, टॉयलेट साफ-सफाई और ऑन बोर्ड एंटरटेनमेंट जैसी सर्विसेस में बदलाव किए जाएंगे. माना जा रहा है कि राजधानी और शताब्दी के मेकओवर को लेकर किए जा रहे ये बदलाव अक्टूबर से देखने को मिलेंगे.

इन प्रीमियर ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों के एक्सपीरियंस को और बेहतर बनाने के लिए भारतीय रेलवे 30 ट्रेनों (15 राजधानी और 15 शताब्दी) के मेकओवर की तैयारी कर रहा है. इस काम में करीब 25 करोड़ रुपए का खर्च आएगा. अक्टूबर से शुरू हो रहे फेस्टिव सीजन को देखते हुए रेलवे ने ‘प्रोजक्ट स्वर्ण’ लॉन्च किया है. तीन महीने के इस प्रोग्राम में कोच के इंटिरियर्स, टॉयलेट आदि को दोबारा चमकाने का काम किया जाएगा.

रेलवे मिनिस्ट्री के एक अधिकारी ने कहा है कि इन प्रीमियर ट्रेनों में दी जाने वाली सुविधाओं को बेहतर करने का फैसला किया गया है और इसी के चलते तीन महीनों की डेडलाइन के साथ ‘प्रोजेक्ट स्वर्ण’ को लॉन्च किया गया है. पिछले कुछ समय से इन ट्रेनों में केटरिंग, समय-पाबंदी और टॉयलेट साफ-सफाई को लेकर काफी शिकायतें सामने आईं हैं और माना जा रहा है इसी के चलते रेलवे द्वारा ये कदम उठाया गया है.

प्रोजेक्ट स्वर्ण के अंतर्गत ट्रेन के सिक्योरिटी सिस्टम को भी मजबूत किया जाएगा. मुंबई, हावड़ा, पटना, रांची और भुवनेश्वर रूट के लिए चलने वाली राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों को सर्विस अपग्रेडेशन के लिए चुना गया है. वहीं, हावड़ा-पुरी, नई दिल्ली-चंडीगढ़, नई दिल्ली-कानपुर, हावड़ा-रांची, आनंद विहार-काठगोदाम रूट पर चलने वाली 15 शताब्दी ट्रेनों को मेकओवर के लिए चुना गया है.

Share With:
Rate This Article