हरियाणा के सभी गांव खुले में शौच मुक्त घोषित, उत्तराखंड का नाम भी शामिल

हरियाणा और उत्तराखंड ने अब स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत गुरुवार को संयुक्त रूप से चौथा खुले में शौच से मुक्त राज्य बनने का दावा किया है।

हरियाणा के पंचायत एवं विकास मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने प्रेस कान्फ्रेंस में जानकारी दी कि राज्य के सभी 6205 ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया गया है।  राज्य की सभी 6205 ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया गया है। धनखड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा के स्वर्ण जयंती वर्ष में ओडीएफ के लिए पहली नवंबर तक का लक्ष्य दिया था जिसे पंचायत एवं विकास विभाग ने 30 जून तक निर्धारित किया।

एक सप्ताह पूर्व ही यह लक्ष्य पूरा कर लिया गया। वर्ष 2012 के सर्वे के अनुसार गांवों में 30 लाख 24 हजार 600 घरों में से सात लाख 51 हजार 180 में शौचालय नहीं थे।

अब इन सभी घरों में शौचालय बन गए हैं। अब गांवों को ओडीएफ प्लस अर्थात ठोस, तरल कचरे का निपटान घरों में ही करने की तैयारी है।

उधर, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार ने संकल्प लिया है कि राज्य के शहरी क्षेत्रों को इसी वित्तीय वर्ष में ओडीएफ किया जाएगा।  राजधानी देहरादून में ओएनजीसी सभागार में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत उत्तराखंड के ओडीएफ राज्य बनने के उपलक्ष्य में सम्मान समारोह आयोजित किया गया।

उन्होंने आशा जताई कि उत्तराखंड मिशन के दूसरे चरण में ठोस एवं तरल अवशिष्ट प्रबंधन में अग्रणी राज्य बनेगा।

Share With:
Rate This Article