पाकिस्तान ने जाधव को टॉर्चर कर बनाया वीडियो, नजर आए चोट के निशान

दिल्ली

भारत का लगातार कहना है कि पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव के कथित अपराध स्वीकार करने वाले वीडियो में उन्हें अपराध स्वीकार करने के लिए मजबूर किया गया.

बता दें पाकिस्तान ने गुरुवार को कुलभूषण जाधव का दूसरा कथित अपराध कबूलनामे का वीडियो जारी किया है. रक्षा विशेषज्ञों ने भी शुक्रवार को कहा कि वीडियो में देखा जा सकता है कि पाकिस्तान ने ये सब कहने के लिए कुलभूषण जाधव पर काफी अत्याचार किया था.

रक्षा विशेषज्ञ सुनील देशपांडे और शिवाली देशपांडे ने कहा कि वीडियो में जाधव के चेहरे पर मौजूद निशानों से पता चलता है कि वीडियो में अपराध कबूलने के लिए जाधव को मजबूर किया गया था.

शिवाली ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि पाकिस्तान फिर से लोगों की आंखों में धूल झोंकने की कोशिश कर रहा है. पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव का कथित कबूलनामे वाला वीडियो तो जारी कर दिया, लेकिन वीडियो को देखकर कोई छोटा बच्चा भी बता सकता है कि ये वीडियो फर्जी है क्योंकि इस वीडियो में जाधव के चेहरे पर उन्हें दिए गए यातना के निशान साफतौर पर देखे जा सकते हैं. दूसरा, ये आईएसआई का प्रोपगेंडा था कि वो अपराध को खुद जाधव के मुंह से कबूलवा रहे हैं.

शिवाली ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पाकिस्तान को ये जान लेना चाहिए कि अगर वे ऐसी चालबाजी दिखाते रहेंगे तो भारत भी बदला लेने से नहीं चूकेगा.

सुनील देशपांडे ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय द्वारा इस मामले में अंतिम फैसला आने तक पाक को कोई कार्रवाई न करने के निर्देश के बाद भी पाकिस्तान की ये करतूत उसकी उद्दडंता को दर्शाता है.

आपको बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने अपने बयान में कहा था कि जाधव ने राज्य में जासूसी, आतंकवाद और विध्वंसक गतिविधियों के आरोपों को स्वीकार कर लिया है.

गौरतलब है कि भारत ने मई में कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में अपील की थी. फिलहाल न्यायालय में मामला चल रहा है. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने इस मामले में भारत को 13 सितंबर तक और पाकिस्तान को 13 दिसंबर तक रिपोर्ट देने के लिए कहा है.

Share With:
Rate This Article