7 साल बाद चीन से भी ज्यादा हो जाएगी भारत की जनसंख्या: संयुक्त राष्ट्र

दिल्ली

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने दावा किया है कि भारत की आबादी 2024 तक चीन से ज्यादा हो जाएगी. वहीं 2030 तक भारत की आबादी 1.5 अरब होने की संभावना है. यूएन ने ये दावा आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग ने विश्व आबादी संभावना-2017 नामक रिपोर्ट में किया है.

यूएन की रिपोर्ट में कहा गया है कि फिलहाल चीन की आबादी 1.41 अरब है और भारत की 1.34 अरब. विश्व की कुल आबादी में चीन की 19% और भारत की 18% की हिस्सेदारी है. इस आकड़े को देखते हूए लगता है कि भारत 2024 तक चीन की आबादी को पार कर लेगा.

संयुक्त राष्ट्र आधिकारिक अनुमान की यह 25वें दौर की समीक्षा रिपोर्ट है. 24वें दौर का अनुमान 2015 में जारी किया गया था. जिसमें अनुमान लगाया गया था कि भारत की आबादी 2022 तक चीन को पार कर जाएगी. इस रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि 2024 तक भारत और चीन दोनों की आबादी करीब 1.44 अरब के आसपास होगी.

वहीं भारत की आबादी 2030 तक 1.5 अरब और 2050 तक 1.66 अरब तक होने की संभावना है. चीन की आबादी 2030 तक स्थिर रहने का अनुमान है जिसके बाद इसमें धीमी गिरावट आ सकती है. भारत की आबादी में गिरावट 2050 के बाद होने की संभावना है.

सामूहिक रूप से 10 देशों की आबादी 2017 से 2050 के बीच बढ़ कर दुनिया की कुल आबादी की आधी से अधिक हो जाने की उम्मीद है. इन देशों में भारत, नाइजीरिया, कांगो, पाकिस्तान, इथोपिया, तंजानिया, अमेरिका, यूगांडा, इंडोनेशिया और मिस्र शामिल हैं. इन 10 देशों में नाइजीरिया की आबादी सबसे तेजी से बढ़ रही है. उसकी आबादी अमेरिका की आबादी को पार कर जाने का अनुमान है और 2050 से कुछ वर्ष पहले यह दुनिया की तीसरा सवार्धिक आबादी वाला देश बन जाएगा.

Share With:
Rate This Article