शिक्षकों के खाली पद नहीं भरने से नाराज अभिभावक सड़क पर उतरे, जमकर की नारेबाजी

ऊना(शिमला): उपमंडल अंब के तहत कई प्राइमरी स्कूलों में चल रही शिक्षकों की भारी कमी को लेकर एसएमसी कमेटियों व बच्चों के अभिभावकों का गुस्सा फूट पड़ा है. मंगलवार को करीब एक दर्जन स्कूल प्रबंधन कमेटियों की अगुवाई में बच्चों के अभिभावकों ने ऊना में शिक्षा विभाग के उपनिदेशक कार्यालय का घेराव किया.

उन्होंने ऑफिस के बाहर किए गए जोरदार विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर नारेबाजी भी की. प्रदर्शन में बड़साला, लंगोटी, कुठेड़ा खैरला, रिपोह, धंदड़ी, खरोटा, टकारला, सूरी, पलोह, नलोह समेत अन्य स्कूल प्रबंधन समितियां शामिल रहीं। प्राइमरी टीचर्स फेडरेशन की अंब यूनिट के अध्यक्ष जगदेव जग्गी व सूरी पंचायत के प्रधान सुदर्शन कुमार के नेतृत्व में किए गए धरना प्रदर्शन के दौरान प्रदेश सरकार व शिक्षा विभाग को जमकर कोसा गया.

जगदेव जग्गी व सुदर्शन ने कहा कि 8 जून को बीईईओ अंब के माध्यम से अभिभावकों ने विभाग के उच्चाधिकारियों को अपनी समस्याएं बताई थी. उसी दिन दिए गए अल्टीमेटम के दौरान विभाग को 20 जून तक शिक्षकों के रिक्त पद भरने को कहा गया था, लेकिन अभी तक इस मसले पर कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है. इसके चलते उनको मजबूरन धरना प्रदर्शन करना पड़ा है.

उन्होंने कहा कि तीन बार युक्तिकरण के आदेश जारी हुए, लेकिन उन पर भी अमल नहीं किया गया. अध्यापकों की डेपुटेशन के सहारे स्कूलों का काम चलाया जा रहा है. इनमें प्रमुख रूप से कटौहड़ खुर्द, गंगोटी, कड़प, रपोह मुचलेयां, मंझार, पलोह, बिझड़ी, अकरोट, सलूरी, पल्लियां, धार गुज्जरां, बड़साला स्कूल एक-एक अध्यापक के सहारे चल रहे है. अपर टकारला, खरोह, सनोह स्कूल बिना अध्यापक के हैं. नैहरियां में दो, धंदड़ी, डठवाडा, कुठेडा खैरला लोअर में अध्यापकों का एक-एक पद खाली चल रहा है. उन्होंने मांग की है कि इन स्कूलों में रिक्त पदों पर जल्द नियुक्तियां की जाए.

Share With:
Rate This Article