पंजाब में किसानों की कर्ज माफी फैसले के बाद हरियाणा सरकार पर बढ़ा दबाव

पंजाब में किसानों के कर्ज माफी फैसले के बाद अब हरियाणा की खट्टर सरकार पर भी कर्ज माफी का दबाव बढ़ने लगा है. हालांकि हरियाणा सरकार अभी इस मामले में कुछ भी कहने से बच रही है, लेकिन 30 जून को सरकार ने किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को चंडीगढ़ में बातचीत के लिए बुलाया है.

बैठक में खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और कृषि मंत्री ओ.पी. धनखड़ मौजूद होंगे. वहीं पिछले दिनों हुई मंत्री समूह की बैठक में भी किसानों की समस्याओं पर चर्चा हुई थी, जिसमें किसानों की कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने के लिए चल रहे आंदोलन पर चर्चा की गई.

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने भी हरियाणा में किसानों की कर्ज माफी की चर्चाओं को सिरे से नकारा. उन्होंने कहा कि पंजाब कुछ भी करे, उससे हरियाणा को क्या लेना-देना है. हरियाणा में किसानों की स्थिति बिल्कुल अलग है और अभी तक सरकार में ऐसी किसी बात पर चर्चा नहीं हुई है.

Share With:
Tags
Rate This Article