अमेरिकी सेना ने सीरियाई सुखोई विमान को मार गिराया, बढ़ सकता है तनाव

दमिश्क

अमेरिकी सेना ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए सीरिया की बशर अल-असद सरकार के एक लड़ाकू विमान को मार गिराया है. आरोप है कि यह फाइटर जेट कुर्दिश लड़ाकों की फौज को निशाना बना रहा था. अमेरिकी सेना द्वारा अपने इस विमान को निशाना बनाकर गिराए जाने पर असद सरकार ने तीखी प्रतिक्रिया दी है.

माना जा रहा है कि इस ताजे घटनाक्रम के बाद अमेरिका और असद का साथ दे रहे रूस के बीच तनाव और बढ़ जाएगा. अप्रैल के बाद से अमेरिका द्वारा राष्ट्रपति असद की सेना पर की गई यह सबसे बड़ी कार्रवाई है. इससे पहले अप्रैल में अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने असद सेना के एक एयरबेस पर मिसाइल हमला किए जाने का आदेश दिया था.

US सेंट्रल कमांड ने बताया कि असद सेना के SU-22 विमान ने सीरियन डेमोक्रैटिक फोर्सेस (SDF) के पास बम गिराए. अमेरिका इस लड़ाई में SDF की मदद कर रहा है. सीरिया में एक ही साथ 2 मोर्चे खुले हुए हैं. एक ओर तो विद्रोही गुट असद सरकार के खिलाफ लड़ रही है और उन्हें दबाने के लिए रूस और ईरान के साथ मिलकर असद की फौज सैन्य कार्रवाई कर रही है. दूसरी तरफ SDF और अमेरिकी गठबंधन सेना रक्का और इसके आसपास के इलाकों में ISIS के साथ जंग लड़ रही है.

अमेरिकी फौज की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है, ‘युद्ध के नियमों के मुताबिक और अमेरिकी गठबंधन व इसकी सहयोगी सेनाओं की आत्मरक्षा के लिए अमेरिकी F/A-18E सुपर होर्नेट ने तत्काल सीरियन सरकार के SU-22 लड़ाकू विमान को मार गिराया.’

बयान में आगे कहा गया है, ‘अमेरिकी गठबंधन सेना का मकसद इराक और सीरिया में इस्लामिक स्टेट (ISIS) को हराना है. हमारी सेना सीरिया की असद सरकार, रूस या फिर असद की समर्थक सेनाओं के साथ नहीं लड़ना चाहती, लेकिन हम अपनी व अपनी सहयोगी सेनाओं की हिफाजत के लिए कोई कार्रवाई करने से पीछे भी नहीं हटेंगे.’

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment