GST काउंसिल की बैठक में होटल इंडस्ट्री को राहत, निजी लॉटरी पर 28% टैक्स

दिल्ली

वस्तु एवं सेवा कर (GST) 30 जून को आधी रात से लागू हो जाएगा. इसके साथ ही देश में आजादी के बाद सबसे बड़ी कर सुधार व्यवस्था अस्तित्व में आ जाएगी. रविवार को GST की बैठक में सरकारी और प्राइवेट लॉटरी पर अलग-अलग टैक्स तय किए गए. साथ ही GST काउंसिल ने कारोबारियों को बड़ी राहत देते हुए रिटर्न भरने के लिए दो महीने का समय दिया है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि GST के तहत राज्य सरकार की ओर से संचालित लॉटरी पर 12 फीसदी और सरकार की ओर से मान्यता प्राप्त प्राइवेट लॉटरी पर 28 फीसदी का टैक्स लगेगा. उन्होंने बताया कि GST में लॉटरी पर टैक्स अहम मुद्दा था. कुछ राज्य इसमें कम टैक्स लगाने के पक्ष में हैं. अब GST काउंसिल की बैठक 30 जून को होगी.

वित्त मंत्री ने बताया कि GST आधिकारिक तौर पर 30 जून को मध्यरात को लांच हो जाएगा और दिल्ली में एक जुलाई से काम करने लगेगा. उन्होंने बताया कि 7,500 रुपये या इससे ज्यादा महंगे होटल कमरों पर 28 फीसदी और 2,500 से 7,500 रुपये तक के होटल कमरों पर 18 फीसदी टैक्स लगेगा. उन्होंने कहा कि ऐसे होटलों पर एयर कंडीशंड रेस्टोरेंट की तरह 18 फीसदी टैक्स लगेगा. वित्तमंत्री ने कहा कि ई-वे विधेयक पर आगे विचार-विमर्श किया जाएगा, तब तक वैकल्पिक नियम काम करेगा.

जेटली ने कहा कि हमारे पास इतना समय नहीं है कि हम GST को टालें. GST काउंसिल ने इसको एक जुलाई से लागू करने का फैसला लिया है. उन्होंने कहा कि आईटी तैयारी पर विस्तार से चर्चा की गई और 65.6 लाख इकाइयों ने अस्थायी पंजीकरण कराया. इस दौरान जीएसटी काउंसिल ने मुनाफाखोरी निरोधक और ई-वे विधेयक विधेयक नियमावली को मंजूरी दी.

Share With:
Rate This Article