आतंकवाद पर अमेरिकी सासंदों की पाक को लताड़, कहा-बंद की जाएं आर्थिक मदद

अमेरिकी संसद के दो सांसदों की ओर से आतंकवाद को समर्थन देने के चलते पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगायी गयी. उन्होंने पाक को मिलने वाली अमेरिकी मदद पर रोक लगाने की मांग की. ट्रंप प्रशासन से पाक की दी जाने वाली सैन्य मदद रोकने की वकालत के साथ ही सांसदों ने पाकिस्तान को अमेरिकी हथियार न बेचने की बात की.

अमेरिकी कांग्रेस के डाना रोहराब्रकर और टेड पो ने पिछले हफ्ते आतंकवाद, विदेशी सैन्य बिक्री और उसके अप्रसार की सुनवाई की विदेशों मामलों पर बनी कमेटी की ओर से कही गयी। उन्होंने कहा कि सबकों पता है कि पाकिस्तान ने डा. अफरीदी के साथ क्या किया था, जिन्होंने आतंकी ओसामा बिन लादेन को  पकड़वाने में अमेरिका की मदद की थी।

डाना रोहराब्रकर ने कहा कि अमेरिका को पाकिस्तान नहीं बल्कि इजिप्ट जैसे को सैन्य मदद उपलब्ध करानी चाहिए, जो इस वक्त आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहे है. हाउस ऑफ फारेन अफेयर्स  सब-कमेटी के चेयरमैन टेड पो ने कहा कि अमेरिका ने आतंकवाद के खात्मे को लेकर पाकिस्तान को वर्षों तक आर्थिक मदद मुहैया कराता रहा। लेकिन पाकिस्तान उसका बेजा इस्तेमाल करता रहा.

उनके मुताबिक पाक के रवैये से अमेरिका चिंतित है. उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान को हथियार और आर्थिक मदद इसलिए नहीं दी कि वो इसका इस्तेमाल अमेरिका के खिलाफ करें. अमेरिका ने आतंकवाद के खात्मे के लिए पाकिस्तान को मदद दी.

उन्होंने कहा कि पाकिसतान, अमेरिका से हथियार लेकर अफगानिस्तान स्थित तालिबान को हथियार बेंच देता है. उन्हीं हथियारों से तालिबान अफगानिस्तान स्थित अमेरिकी लड़ाकों पर हमला करते हैं. ऐसे में पाकिस्तान प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर अमेरिका को ही नुकसान पहुंचा रहा है.

उन्होंने कहा कि अमेरिकी प्रशासन की ओर से पाकिस्तान को कहना चाहिए कि वो उनका रणनीतिक साझीदार देश है. पाकिस्तान को तालिबान को एक टेबल पर लाने में मदद करनी चाहिए. सांसदों ने कहा कि अमेरिका आतंकवाद के मुकाबले में पाकिस्तान की करता रहा, जबकि पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क को समर्थन देता रहा. उसकी इस दोहरी रणनीति से अमेरिकियों में गहरी चिंता होने की बात कही गयी.

 

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment