खाड़ी संकट: कतर ने की अमेरिका से लड़ाकू विमान खरीदने के लिए डील

कतर-खाड़ी विवाद पर अमेरिका का रवैया अभी तक उलझा हुआ और अस्पष्ट रहा है. एक ओर जहां अमेरिकी अधिकारी कतर-सऊदी विवाद पर काफी संभलकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं, तो वहीं राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप कई बार कतर पर आतंकवाद को मदद देने के आरोपों को दोहरा चुके हैं.

अमेरिका की ओर से दी जा रही इन मिश्रित प्रतिक्रियाओं की कड़ी में अब वॉशिंगटन और दोहा के बीच लड़ाकू विमानों की खरीद पर करीब 8 खरब रुपये के एक सौदे पर समझौता हुआ है. खबर के मुताबिक, इस रक्षा सौदे के तहत अमेरिका कतर को F-15 फाइटर जेट्स बेचेगा.

12 अरब डॉलर इसकी शुरुआती लागत बताई जा रही है. सौदे की राशि और बढ़ सकती है. इससे पहले अमेरिका ने कतर पर बैन लगाने वाले सऊदी अरब के साथ भी एक बड़ा हथियार सौदा किया था.

कतर के रक्षा मंत्री खालिद अल अतियाह और अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस के बीच बुधवार को वॉशिंगटन में यह करार हुआ. कतर न्यूज एजेंसी ने यह जानकारी दी है.

इस रक्षा सौदे के बारे में बताते हुए अतियाह ने कहा, ‘यह करार साबित करता है कि कतर किस तरह अपने दोस्त और सहयोगी अमेरिका के साथ सामरिक सहयोग बढ़ा रहा है, ताकि हिंसक आतंकवाद के साथ मुकाबला कर शांति और स्थिरता कायम करने की कोशिश की जा सके.

इस रक्षा सौदे को कतर ने अमेरिका के साथ अपने सामरिक और रक्षा सहयोग का विस्तार बताया. रक्षा मंत्री अतियाह ने यह भी कहा कि कतर अमेरिका के साथ अपना साझा सैन्य कार्यक्रम जारी रखना चाहता है. मालूम हो कि कतर में अमेरिका का एक सैन्य अड्डा है, जो कि पूरे मध्यपूर्वी एशिया में US का सबसे बड़ा मिलिटरी अड्डा है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment