कतर का कारोबारी देगा सऊदी अरब को जवाब, प्लेन से मंगवाएगा 4000 गाय

आतंकवाद का समर्थन करने के आरोप में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र एवं बहरीन समेत कई देशों द्वारा राजनयिक संबंध तोड़ने से दूध और अन्य खाद्य उत्पादों के लिए विदेशों पर निर्भर रहने वाले कतर ने ताजा संकट से निपटने के लिए नायाब तरीका खोज निकाला है.

संकट की इस घड़ी में कतर के एक बड़े व्यवसायी मोताज अल खयात ने ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका से चार हजार गायों को कतर एयरवेज के विमानों से दोहा लाने का फैसला किया है.

इन गायों को दोहा लाने के लिए कतर एयरवेज के विमानों को करीब 60 बार उड़ान भरनी होंगी. एक वयस्क गाय का वजन 590 किलो है. मोताज का कहना है कि इस कदम से सऊदी अरब से दूध की आपूर्ति बंद होने का संकट खत्म हो जाएगा और कतर एयरवेज जिसकी उड़ानें सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और बहरीन द्वारा प्रतिबंधित कर दी गई हैं, उसके नुकसान की भरपाई भी हो जाएगी।

मोताज पावर इंटरनेशनल होल्डिंग के अध्यक्ष हैं. मोताज के अनुसार, इन गायों को दोहा से 50 किमी दूर उनके डेयरी फार्म में रखने और उनकी देखरेख करने का सभी काम पूरा हो चुका है.

जून के अंत तक देश में ताजे दूध का भरपूर उत्पादन शुरू हो जाएगा और जुलाई के मध्य तक दूध की घरेलू मांग करीब-करीब पूरी कर ली जाएगी. कूटनीतिक संबंध समाप्त किए जाने से उपजे संकट से निपटने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तहत ईरान कतर को फल एवं सब्जियों का तथा तुर्की डेयरी उत्पाद भेज रहा है.

संयुक्त अरब अमीरात नागर विमानन प्राधिकरण ने कहा कि कतर पर खाड़ी देशों के वायुक्षेत्र में उड़ान भरने को लेकर जो प्रतिबंध लगाया गया है, वह सिर्फ कतर की विमानन कंपनियों या उन कंपनियों पर लागू है जो वहां पंजीकृत हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रतिबंध उन विमानन कंपनियों एवं विमानों पर भी लागू नहीं होता, जो कतर या तीनों पड़ोसी देशों में पंजीकृत नहीं हैं और कतर जाते समय या वहां से आते समय इनके वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करना चाहती हैं।

 

Share With:
Rate This Article