लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने पर हिमाचल सहमत

संसद की स्थाई समिति की बैठक अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य आनंद शर्मा की अध्यक्षता में रविवार को शिमला में हुई. इसमें प्रदेश के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया व लोकसभा, विधानसभा, पंचायती राज संस्थाओं व नगर निगम चुनाव चुनाव एक साथ करवाने पर सहमति जताई.बैठक में चुनाव आयोग को दोहरे खर्च से बचाने के लिए एक साथ चुनाव करवाने पर राय मांगी गई थी।

संसद की 40 सदस्यीय समिति सभी राज्यों का दौरा कर चुनाव खर्च कम करने के लिए लोकसभा व विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने पर राय ले रही है।. सभी राज्यों से एकत्रित राय की रिपोर्ट संसद में रखी जाएगी. उस पर चर्चा के बाद फैसला होगा कि सभी चुनाव एक साथ करवाए जाएं या नहीं।समिति के 31 सदस्यों ने रविवार को राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ सभी चुनाव एक साथ करवाने पर चर्चा की.

कांग्रेस की ओर से पार्टी महासचिव हरभजन सिंह भज्जी, भाजपा से एचएन कश्यप व राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी से रमेश डोगरा ने बैठक में भाग लिया। राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने नगर निकाय एवं पंचायतीराज और लोकसभा व विधानसभा के चुनाव एक साथ करवाने की सहमति जताई. उनका मानना था कि इससे चुनाव खर्च भी बचेगा. बैठक में मुख्य सचिव वीसी फारका और मुख्य निर्वाचन अधिकारी नरेंद्र चौहान भी मौजूद रहे.

लोकसभा व विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने पर राय जानने के लिए संसदीय समिति विभिन्न राज्यों का दौरा कर रही है. शिमला में हुई बैठक में प्रदेश के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने इस पर सहमति जताई है. आनंद शर्मा,संसद की स्थाई समिति के यक्ष कमेटी में कौन-कौनरजनी पाटिल (महाराष्ट्र), भगवंत मान (पंजाब), केटीएस तुलसी (दिल्ली) व दिलीप भाई (गुजरात) समेत 31 सदस्य शिमला बैठक में शामिल होने पहुंचे थे.

 

Share With:
Rate This Article