मोस्ट वांटेड नागा उग्रवादी संगठन के प्रमुख खापलांग की हार्ट अटैक से मौत

यांगून

नागा विद्रोही समूह नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालैंड-खापलांग (एनएससीएन-के) के अध्यक्ष एस एस खापलांग की शुक्रवार की रात म्यांमार के कचिन राज्य के टक्का में मौत हो गई.

मणिपुर में सेना के 18 जवानों को मारने सहित सुरक्षा बलों पर अन्य कई हमलों का मास्टरमाइंड रहा खापलांग की उम्र 77 साल थी.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एनएससीएन-के के नेता की मृत्यु दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुई. शांगवांग खापलांग म्यांमार का हेमी नागा था और उसने अपना ज्यादातर वक्त म्यांमार में ही गुजारा.

एनएससीएन का यह गुट 1980 के दशक से सुरक्षा बलों पर हमले, जबरन वसूली और लूटपाट जैसी गतिविधियों में लिप्त रहा है.

मणिपुर में चार जून 2015 को घात लगा कर किए गए हमले में एनएससीएन-के का हाथ होने की खबर थी. इस हमले में सेना के 18 जवान मारे गए थे. इस घटना के बाद भारतीय सेना ने सीमा पार जा कर म्यांमार में स्थित एनएससीएन-के के शिविरों पर हमला किया जिसमें कई उग्रवादी मारे गए थे.

एनएससीएन-के ने सेना के काफिले पर घात लगा कर हमला तब किया था जब वह केंद्र सरकार के साथ शांति वार्ता कर रहा था. इसके बाद यह बातचीत बंद कर दी गई और सितंबर, 2015 में एनएससीएन-के को पांच साल के लिए प्रतिबंधित संगठन घोषित कर दिया गया.

Share With:
Rate This Article