लुधियाना: बहादुर बेटी ने बचाई पिता की जान, 55% लीवर किया दान

डी.एम.सी. अस्पताल के लीवर ट्रांसप्लांट यूनिट में हाल ही में एक सफलतापूर्वक सर्जरी करवाई गई जिसमें एक अविवाहित बेटी ने अपने पिता को लिवर का अंश डोनेट किया। मरीज मनमोहन सिंह बहुत लंबे समय से डायबिटीज और लिवर से संबंधित बीमारियों से पीड़ित थे। अपनी लंबे समय की बीमारी के कारण उसकी तबीयत बहुत खराब हो गई थी।

मरीज मनमोहन सिंह कहते हैं कि उनके लिए जीना बहुत मुश्किल हो गया था क्योंकि उनके पेट में काफी मात्रा में पानी भर जाता था और काफी लंबे समय से इलाज करवाने के कारण उनका लगभग सारा पैसा खत्म हो चुका था। मरीज मनमोहन सिंह की ऐसी हालत देखकर डाक्टरों ने उसे लिवर ट्रांसप्लांट करवाने की सलाह दी जो कि उसके पास एकमात्र उपाय था।

बेटी ने दिया पिता को जीवन दान
लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी करवाने से पहले मनमोहन सिंह की जांच के दौरान यह पाया गया कि मनमोहन सिंह का ब्लड ग्रुप अपनी बेटी मनप्रीत के अलावा किसी और से नहीं मिल रहा था। अपने बीमार पिता के प्रति सहानुभूति को देखकर अंत में उसके परिवार वालों को उसके निर्णय को मानना पड़ा। ऑपरेशन से पहले होने वाली सारी कार्रवाई के बाद एक सफलतापूर्वक लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी की गई जो कि लगभग 12 घंटे के करीब चली। सर्जरी करवाने के पश्चात दोनों बाप और बेटी को अस्पताल से सफलतापूर्वक छुट्टी दे दी गई।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment