लालू के बेटे तेजप्रताप यादव कर रहे हैं ‘दुश्मन मारण यज्ञ’, बाहर से बुलाए पंडित

पटना

कोई बड़ी परेशानी आने पर अक्सर लोग पंडितों और ज्योतिषियों का सहारा लेते हैं. इस वक्त लालू प्रसाद यादव का परिवार भी बेनामी संपत्तियों को लेकर बड़ी मुश्किलों में जूझ रहा है. इसे देखते हुए उनके बड़े बेटे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ‘दुश्मनों’ से निपटने के लिए तंत्र-मंत्र और वास्तु का सहारा ले रहे हैं.

गौरतलब है कि पटना में पेट्रोल पंप अलॉटमेंट के मामले में तेज प्रताप को हाल ही में बीपीसीएल का नोटिस मिला है. विपक्षी नेता इस मामले में उन्हें और लालू प्रसाद यादव को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं. इसी से बचने के लिए वे ज्योतिषियों और वास्तु विशेषज्ञों की शरण में हैं.

दो हफ्तों पहले वास्तु एक्सपर्ट्स की सलाह पर तेज प्रताप यादव ने 3 देशरत्न मार्ग पर दक्षिणमुखी आवास का मुख्य दरवाजा इस्तेमाल करना बंद कर दिया और अब वह पिछले दरवाजे से ही निकलते हैं और वहीं से अंदर आते हैं. सूत्रों ने बताया कि तेज ने हाल ही में अपने दाहिने हाथ और गले में रुद्राक्ष की माला पहनना शुरू कर दिया है.

जानकारी के अनुसार, तेज प्रताप अपने निजी आवास परिसर में विशेष तरीके से निर्माण की गई मड़ई में पिछले दो दिन से ‘दुश्मन मारण’ जाप करा रहे हैं. जाप रात 8 बजे शुरू होकर 11 बजे तक चलता है, जो सप्ताह भर चलेगा. इस दौरान तेजस्वी मड़ई में लाल रंग का अंगवस्त्र पहनकर बैठते हैं. जाप करने वाले पुरोहित ने दावा किया है कि ये जाप कभी फेल नहीं होता है.

बताते चलें कि लालू प्रसाद यादव भी तंत्र-मंत्र पर विश्वास करते हैं. वह विभूती नारायण के कट्टर भक्त हैं, जिन्हें ‘पगला बाबा’ के नाम से भी जाना जाता है. सूत्रों ने कहा कि पगला बाबा ने 1995 के विधानसभा चुनावों से पहले लालू को ‘बगुलामुखी का जाप’ करने के लिए सलाह दी थी. यह शत्रुता को नष्ट करने के उद्देश्य से किया जाने वाला एक तांत्रिक अनुष्ठान है.

Share With:
Rate This Article