हिमाचल प्रदेश: ड्राइवर्स को निरीक्षक पद देने के खिलाफ परिचालक एकजुट

हिमाचल प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा ड्रायवरों को निरीक्षक और उप निरीक्षक के पद पर पदोन्न करने के खिलाफ परिचालक लामबंद हो गए हैं. हिमाचल प्रदेश परिचालक यूनियन इस मामले को कोर्ट में ले जाने के मूड में है. बता दें कि हिमाचल प्रदेश देश का इकलौता राज्य जहां परिवहन निगम चालकों को निरीक्षक का पद दे रहा है.

मंडी में संपन्न हुई परिचालक यूनियन की राज्य स्तरीय बैठक में इस मामले को कोर्ट में ले जाने का निर्णय लिया गया है.  एचआरटीसी में चालकों को 24 प्रतिशत कोटे के तहत उप निरीक्षक और निरीक्षक के पद पर पदोन्नति दी जा रही है. चालक यूनियनें कोटे को 50 प्रतिशत करने की मांग को लेकर न्यायलय में चली गई हैं . परिचालक यूनियनों ने भी न्यायलय में ही इसका विरोध करने का निर्णय लिया है.

यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष प्यारे लाल कश्यप के अनुसार परिचालक सभी परिक्षाओं को पास करता है और उसे निरीक्षक के पद का पूरा ज्ञान होता है. जबकि चालक मिडल क्लास पास करने के बाद चालक बन जाता है. ऐसे में उनका इस पद को संभालना न्यायसंगत नहीं.  यूनियन ने परिचालकों के एक हजार पदों को प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके परिचालकों से या फिर सेवा चयन आयोग के माध्यम से भरने, आॅपरेशनल स्टाफ के प्रतिपूरक अवकाश पर लगाई गई शर्तों को हटाने और लंबित पड़े सभी वित्तिय लाभ अदा करने की गुहार भी लगाई है.

Share With:
Rate This Article