चीन के समर्थन से संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध बढ़ाए

जेनेवा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने शुक्रवार को सर्वसम्मति से उत्तर कोरिया से जुड़े 15 लोगों और चार संस्थाओं को काली सूची में डाल दिया. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में पहली बार चीन ने उत्तर कोरिया के खिलाफ सुरक्षा परिषद की कार्रवाई में अमेरिका का साथ दिया.

लेकिन उत्तर कोरिया के खिलाफ कड़े प्रतिबंधों के अमेरिका के प्रस्ताव का समर्थन करने से चीन ने इन्कार कर दिया. सुरक्षा परिषद ने यह कार्रवाई उत्तर कोरिया के मिसाइल कार्यक्रम के जारी रहने पर किया है.

सुरक्षा परिषद ने जिन लोगों पर प्रतिबंध लगाया है उनके दुनिया में यात्रा करने पर प्रतिबंध होगा और उनकी विदेश में मौजूद संपत्ति भी जब्त की जाएगी. जिन लोगों पर प्रतिबंध लगाया गया है उन पर उत्तर कोरिया के खुफिया तंत्र में शामिल होने का शक है.

प्रतिबंध से उन लोगों को छूट दी गई है जो उत्तर कोरिया की आवश्यक पेट्रोलियम जरूरतों को पूरा करने में लगे हुए हैं. ताजा कदम परमाणु हथियार और मिसाइल विकास कार्यक्रम में लगे उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने के लिए उठाया गया है.

15 सदस्यों वाली सुरक्षा परिषद में मतदान के बाद अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने कड़े शब्दों में कहा, सुरक्षा परिषद उत्तर कोरिया को साफ संदेश दे रही है कि वह अपने मिसाइल दागना बंद करे या फिर उसके दुष्परिणाम झेले.

उन्होंने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ बातचीत से गतिरोध दूर करना चाहता है. उसका उद्देश्य वहां पर सत्ता परिवर्तन नहीं है. लेकिन उकसावे की गतिविधियां जारी रहीं तो अमेरिका के लिए हर विकल्प खुला है. हेली ने सभी देशों से उत्तर कोरिया के साथ अवैध व्यापार रोकने की अपील की.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment