हरियाणा के युवाओं में नशे की लत चार गुणा बढ़ी- रिपोर्ट

जिस हरियाणा के युवा की पहचान हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन को लेकर होती है वही अब नशे के दलदल में फंसते जा रहे हैं। हालांकि राज्य पुलिस हर वर्ष हजारों मामले दर्ज करती है, नशा मुक्ति केंद्र भी सुधारने का प्रयास करते है लेकिन फिर भी युवाओं में नशे की लत बढ़ती जा रही है। हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग, सामाजिक अधिकारिता विभाग, एन.जी.ओ., गैर-सरकारी और पी.जी.आई. एम.एस. रोहतक की ओर से नशा मुक्ति केन्द्र चलाए जा रहे हैं।

पी.जी.आई. रोहतक की ओर से राज्यस्तरीय नशा मुक्ति केंद्र के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो राज्य में नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करने वालों की संख्या में चार गुणा वृद्धि हुई है। यहां 2011 के दौरान जहां 842 युवा भर्ती हुए थे। वहीं, 2015 में संख्या बढ़कर 3390 तक पहुंच गई। 2016 की पहली छमाही तक उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार नशा मुक्ति केंद्र में 1639 लोगों का पंजीकरण हुआ है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष स्वास्थ्य मंत्री की फतेहाबाद की पुलिस अधीक्षक के साथ तू-तू-मैं-मैं हो गई थी। मंत्री का कहना था कि पुलिस नशा कारोबारियों के खिलाफ सख्त कदम नहीं उठा रही है। विवाद के बाद तत्कालीन पुलिस अधीक्षक का तबादला हो गया था।

नशा मुक्ति केन्द्रों में कार्यरत डाक्टरों के अनुसार करीब 70 प्रतिशत नशा करने वालों की उम्र 17 से 35 वर्ष के बीच है। यही नहीं केंद्रों में आने वाले अधिकतर युवा अथवा अधेड़ उम्र वाले जहां सुविधा संपन्न परिवारों से जुड़े हैं। वहीं, अधिकतर संख्या ग्रामीण अंचल के युवाओं की है।

एक सर्वेक्षण से बात सामने आई है कि केंद्रों में भर्ती होने वालों में अधिकतर आठ जिलों अंबाला, हिसार, गुड़गाव, करनाल, कुरुक्षेत्र, सिरसा, नारनौल तथा कैथल के लोग शामिल हैं।

खिलाड़ियों की ओर से उत्कृष्ठ प्रदर्शन के लिए नशे के प्रयोग की बात तो अक्सर सुनने में आती थी लेकिन हरियाणा में पुलिस भर्ती के दौरान नशे के प्रयोग के कई मामले मामले सामने आए थे। यही नहीं चार अभ्यार्थियों की तो मौत भी हो गई थी। पुलिस और अफसरों को नशे के कनैक्शन का शक हुआ तो जांच-पड़ताल शुरू की गई, जिसमें चौंकाने वाली जानकारियां सामने आईं। भर्ती स्थल के आसपास नशे की दवाओं के रैपर और इंजैक्शन भी मिले थे। शहर में दवा की दुकानों पर छापे मारे गए तो वहां से काफी मात्रा में नशीली दवाएं और इंजैक्शन बरामद हुए।

हरियाणा में पुलिस विभाग की ओर से समय-समय पर नशा तस्करों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाती रहती है, लेकिन फिर भी उनकी संख्या बढ़ती जा रही है। राज्य में अफीम, चरस, चूरा-पोस्त, गांजा, स्मैक तथा हैरोइन जैसे नशों ने भी पांव पसार लिए हैं। दिल्ली के साथ लगते गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद जैसे जिलों में आधुनिक नशे तथा पंजाब व राजस्थान के साथ लगते जिलों में अफीम, चूरा-पोस्त व चरस आदि की तस्करी ज्यादा होती है।

22 में से 18 जिले पड़ोसी राज्यों के साथ लगते हैं। राज्य सरकारें पड़ोसी राज्यों को दोषी ठहराकर पल्ला तो झाड़ लेते हैं लेकिन भाजपा सरकार इस दिशा में कोई ठोस प्रयास नहीं कर रही है। गाय पालन, योगा दिवस, गीता जयंती समारोह से धर्म की तरफ तो रुझान बढ़ता है लेकिन युवाओं को नशे से दूर करने के लिए भी कुछ कदम उठाए जाने जरूरी हैं।

Share With:
Rate This Article