चुनाव आयोग के चैलेंज के दिन ही AAP करेगी ईवीएम हैकाथन का आयोजन

दिल्ली

चुनाव आयोग द्वारा इलेक्‍ट्रॉनिक वोटिंग मशीन हैक करने को लेकर 3 जून को हैकाथॉन का आयोजन किया गया है. ईवीएम टैंपरिंग के आरोप को लेकर हमलावर रही आम आदमी पार्टी भी इसी दिन ईवीएम चैलेंज हैकाथॉन का अयोजन करेगी.

सौरभ भारद्वाज का कहना है कि चुनाव आयोग ने कभी भी हेकाथॉन की बात नहीं की थी, EC ने हमेशा ही ईवीएम चैलेंज की बात की है. भारद्वाज ने कहा कि आम आदमी पार्टी के टेक ग्रुप ने फैसला किया है कि अपनी खराब मशीन का चैलेंज को वह 3 जून को आयोजित करेंगे. इसमें वह देश के सभी एक्सपर्ट और चुनाव आयोग के एक्सपर्ट को भी आमंत्रित करते हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पार्टी उसी ईवीएम का प्रयोग करेगी जिससे उसने दिल्‍ली विधानसभा में हैकिंग का नमूना दिया था. चुनाव आयोग द्वारा ईवीएम हैक करने की चुनौती को लेकर सिर्फ एनसीपी और सीपीआई-एम ने प्रतियोगिता में हिस्‍सा लेने की इच्‍छा जताई थी.

वहीं, आम आदमी पार्टी मांग कर रही थी कि उसे ईवीएम खोलकर मदरबोर्ड से छेड़छाड़ की इजाजत दी जाए. मगर चुनाव आयोग ने साफ कर दिया था कि वह ईवीएम खोलने की अनुमति नहीं देगा, जिसके बाद पार्टी के नेता चुनाव आयोग पर भड़क गए थे.

पार्टी नेता संजय सिंह ने बाकायदा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कहा था, ”हैकॉथन का मतलब होता है कि हैकर्स को खुली छूट दी जाये कि वो कुछ भी करे और EVM को हैक करके दिखाये. हम फिर से EC से निवेदन करते हैं कि लोकतंत्र में विश्वास बनाये रखने के लिये खुली छूट के साथ अपने सामने हैकॉथन का मौका दे.

संजय सिंह ने कहा था, अगर EVM को खोलने नहीं देंगें उसके पुर्जे को समझने नहीं देंगे तो मंत्र पढ़ कर बाहर से तो EVM को हैक तो किया नहीं जा सकता. EVM को टैम्पर करने के 100 तरीके हैं, जिसमें से एक है मदरबोर्ड को बदल देना जो कि हमने विधानसभा में करके दिखाया था. जो पाबंदी EC लगा रहा है EVM को टैम्पर के लिये क्या उसी शर्त के साथ हमारी वाली मशीन को वो टैम्पर करके दिखा सकते हैं?”

Share With:
Rate This Article