बीते जमाने की अभिनेत्री गीता कपूर की दर्द भरी दास्तां, चार दिन में एक बार मिलता था खाना

फिल्मी दुनिया का एक बहुत ही ह्दयविदारक मामला सामने आया है. मीना कुमारी स्टारर फिल्म ‘पाकीजा’ में अहम किरदार निभा चुकी अभिनेत्री गीता कपूर को उनका अपना बेटा अस्पताल में भर्ती करवा कर फरार हो गया.

गीता कपूर की उम्र 58 साल है और उनका बेटा राजा कपूर उन्हें अस्पताल में अकेला छोड़कर भाग गया है. इस घटना को सुनकर हर कोई हैरान है. बता दें कि फिल्मों बतौर अभिनेत्री काम कर चुकीं गीता कपूर पेशे से कोरियोग्राफर हैं. एक वक्त पर वे भारतीय सिनेमा का जाना-माना चेहरा थी.

बताया जा रहा है कि गीता की पिछले महीने तबियत खराब हो गई थी, जिसके बाद उनके बेटे राजा कपूर ने उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती कर दिया. 21 अप्रैल को उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के बाद गीता के बेटा राजा वापस नहीं आया. पूछताछ करने पर पता चला कि जिस घर में राजा रहा था वह उस घर को भी छोड़कर जा चुका है. अब यह बूढ़ी मां अपने बेटे का इंतजार कर रही है.

गीता को ब्लडप्रेशर की समस्या के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जब उनके बेटे से फीस जमा करने को कहा गया तो वह एटीएम लेकर पैसे निकालने गया और फिर वापस नहीं आया.

गीता की हालत काफी नाजुक थी. ऐसे  में एसआरवी अस्पताल के डॉक्टर्स ने इलाज करना जारी रखा. अस्पताल प्रसाशन ने उनके बेटे से संपर्क करने की कई कोशिशें की लेकिन वे नाकाम रहे.  गीता को अस्पताल में भर्ती हुए एक महीने से ज्यादा वक्त हो चुका है और उनका हॉस्पिटल का बिल डेढ़ लाख रुपए से ज्यादा हो गया है.

अंग्रेजी अखबार से बातचीत में गीता ने बताया कि, क्योंकि मैं उसे (राजा कपूर) अय्याशी के लिए पैसे नहीं देती थी इसलिए वह अक्सर मुझे पीटा करता था. रिपोर्ट के मुताबिक गीता ने बताया कि उनका बेटा उन्हें 4 दिन में एक बार ही खाना दिया करता था. इतना ही नहीं कई बार तो वह कई दिनों के लिए उन्हें कमरे में बंद भी कर देता था. मैं किसी वृद्धाश्रम में जाने को राजी नहीं थी, इसीलिए उसने यह सारी साजिश रची.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment