हिमाचल में मिलने वाले काला जीरा और चुली के तेल का होगा पेटेंट

हिमाचल प्रदेश में पाया जाने वाला काला जीरा और चुली के तेल को जल्द ही पेटेंट करवा लिया जाएगा. राज्य जैव विविधता बोर्ड ने काला जीरा और चुली के तेल को पेटेंट करवाने का काम शुरू कर दिया है. राज्य जैव विविधता बोर्ड के संयुक्त स​दस्य सचिव कुणाल सत्यार्थी के अनुसार, इन दोनों वस्तुओं का पेंटेंट होने जाने के बाद देश ही नहीं विश्व में का नाम इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. उन्होंने कहा कि पेटेंट होने के बाद नकली काला जीरा और चुली के तेल की ब्रिक्री पर रोक लगेगी. उन्होंने मीडिया से बातचीत में बताया कि इन दोनों उत्पादों को पेंटेंट करवाने के लिए बोर्ड की टीम दिल्ली में डटी हुई है.

हिमालचल प्रदेश के किन्नौर जिला में काला जीरा पाया जाता है. जबकि चुली का तेज हिमालय के ऊपरी इलाकों में पाया जाता है. गौरतलब है कि हिमाचल में अभी पांच उत्पादों को जीयोग्राफिकल इंडीकेटर का दर्जा मिल चुका है. इसमें चंबा का रूमाल, कांगड़ा की पेंटिंग, कुल्लू और किन्नौरी शॉल और हिमाचली टोपी शामिल है.

Share With:
Rate This Article