तेजस एक्सप्रेस: चोरी से नाराज रेलवे ने लिया 37 रुपए वाले हेड फोन देने का फैसला

देश की सबसे आधुनिक ट्रेन तेजस के पहले सफर के दौरान ही ट्रेन से हेडफोन चोरी होने और सीट पर लगी टीवी स्क्रीन को नुकसान पहुंचाए जाने की घटना के बाद रेलवे अब ट्रेन में सस्ते हेडफोन देने की तैयारी कर रहा है। मीडिया की खबरों के मुताबिक, IRCTC ने एक हजार हेडफोन्स का ऑर्डर दे दिया है, जिसमें प्रत्येक की कीमत सिर्फ 30 रुपये है। तेजस में पहले जो हेडफोन मुसाफिरों के लिए मुहैया कराए गए थे, उसमें प्रत्येक की कीमत 200 रुपये थी। लेकिन ट्रेन के सामान के साथ छेड़छाड़ और चोरी की घटनाओं के बाद अब रेलवे यात्रियों को सस्ता सामान उपलब्ध कराने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

दरअसल, तेजस के पहले ही सफर के दौरान कई हेडफोन चोरी हो गए थे। भारतीय रेलवे की तेजस ट्रेन के सफर पर रवाना होने से पहले भी उपद्रवियों ने पत्थर मार कर ट्रेन के शीशे तोड़ दिए थे। तेजस ने 22 मई को मुंबई से गोवा तक पहली यात्री की थी। तेजस को सेंट्रल रेलवे के अफसरों ने ‘पटरियों पर प्लेन’ करार दिया है। इसमें वर्ल्ड क्लास सुविधाएं, मसलन-सीट्स से लगी एलईडी स्क्रीन्स, वाईफाई, सीसीटीवी कैमरे, चाय और कॉफी की मशीनें आदि हैं। 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने में सक्षम यह ट्रेन मुंबई से गोवा के बीच की 552 किमी की दूरी 9 घंटे में पूरी करती है। 992 सीट वाली इस ट्रेन का सबसे सस्ता टिकट 1185 रुपये है। यह भाड़ा चेयरकार का है, जिसमें खाने की सहूलियत नहीं मिलती। वहीं, सबसे महंगा टिकट 2740 रुपये का है।

Share With:
Rate This Article