आय से अधिक संपत्ति मामले में CM वीरभद्र को बड़ी राहत, कोर्ट ने दी जमानत

दिल्ली

आय से अधिक संपत्ति मामले में घिरे हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बड़ी राहत मिली है. पटियाला हाउस कोर्ट में सीबीआई की विशेष अदालत ने वीरभद्र सिंह की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए उन्हें सशर्त जमानत दे दी है.

अदालत ने वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी और मामले से जुड़े बाकी लोगों को भी जमानत दी है. सोमवार दोपहर अदालत ने अपना फैसला सुनाते ह़ुए सीबीआई को भी आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

केस से जुड़े सभी आरोपियों को एक एक लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिली है. इसके अलावा वीरभद्र सिंह अदालत की अनुमति के बिना विदेश भी नहीं जा सकेंगें. उन्हें अपना पासपोर्ट भी अदालत में जमा करवाना होगा मामले की अगली सुनवाई अब 27 जुलाई को होगी.

वहीं, सीबीआई सीएम वीरभद्र सिंह को जमानत न देने के पक्ष में थी. सोमवार सुबह सीबीआई की विशेष अदालत में इस मामले पर सुनवाई हुई, जिसमें सीबीआई ने कहा था कि वीरभद्र सिंह को जमानत नहीं मिलनी चाहिए.

सुबह हुई सुनवाई के समय कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया ‌था. सीबीआई ने अपनी दलीलें देते हुए कोर्ट में कहा था कि वीरभद्र सिंह राज्य के मुखिया है और वह भ्रष्टाचार के मामले में संलिप्त है.

उन्हें मेडिकल ग्राउंड पर रियायत देते हुए जमानत नहीं मिलनी चाहिए. सीबीआई ने वीरभद्र सिंह के खिलाफ अदालत में कुछ और दलीलें भी रखीं थी.

पटियाला हाउस कोर्ट ने 22 मई को मुख्यमंत्री की दाखिल जमानत याचिका पर सीबीआई को जवाब देने के लिए एक सप्ताह का समय दिया था. अदालत ने सीबीआई को नोटिस जारी कर यह पूछा था कि क्यों न वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी प्रतिभा सहित अन्य आरोपियों को जमानत दे दी जाए.

सीबीआई ने वीरभद्र सिंह पर बतौर केंद्रीय मंत्री रहते हुए 10 करोड़ की आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में चार्जशीट दाखिल की थी. यह राशि उनकी घोषित आय से 192 प्रतिशत अधिक पाई गई.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment