3 दिन से लापता सुखोई-30 का मलबा मिला, पायलटों का कोई सुराग नहीं

भारतीय वायुसेना के लापता हुए एक सुखोई 30 लड़ाकू विमान का मलबा आज तीन दिन के तलाशी अभियान के बाद असम में मिला. सुखोई लड़ाकू विमान मंगलवार को सुबह साढ़े दस बजे तेजुपर सलोनिबारी वायुसेना स्टेशन से उड़ान भरने के बाद लापता हो गया था. यह नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था और इसमें चालक दल के दो सदस्य सवार थे.

आपको बता दें कि यह लड़ाकू विमान मंगलवार सुबह करीब 9.30 बजे नियमित ट्रेनिंग के उड़ा पर था और करीब 11.30 बजे तेजपुर से 60 किलोमीटर उत्तर में चीन सीमा के पास स्थित अरुणाचल प्रदेश के दोउलसांग के पास रडार से इसका संपर्क टूट गया. करीब 72 घंटों की तलाश के बाद विमान का मलबा उस जगह के पास ही मिला है, जहां से विमान का संपर्क टूटा था. यह जंगली इलाका है और यह तक पहुंचना काफी मुश्किल है.

एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 7 सालों में 7 सुखोई विमान हादसे का शिकार हो चुके हैं. आपको बता दें करीब 358 करोड़ रुपये की लागत वाला यह विमान 4.5 जेनरेशन का विमान है और इस समय दुनिया के श्रेष्ठ लड़ाकू विमानों की श्रेणी में शामिल है.

 

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment