पत्थरबाज़ों को बांधने की बजाय अरुंधति रॉय को बांधना चाहिए- परेश रावल

क्या अपनी बात सहज ढंग से खुलकर रखने पर जीप से बांधकर घुमाया जाना चाहिए? लोकतांत्रिक व्यवस्था में यकीन रखने वाले लोग इसका जवाब ‘नहीं’ में देंगे. लेकिन इसी सवाल पर बीजेपी सांसद और एक्टर परेश रावल की राय कुछ अलग है.

आर्मी जीप से कश्मीरी युवक को बांधकर घुमाए जाने के मामले को आगे बढ़ाते हुए परेश रावल ने एक असंवेदनशील ट्वीट किया है.


परेश रावल ने लिखा, ”आर्मी जीप से पत्थरबाज़ों को बांधने की बजाय अरुंधति रॉय को बांधना चाहिए.”

कहां से शुरू हुआ मामला?
अरुंधति रॉय लेखिका और समाजसेवी हैं, जो अक्सर कश्मीरियों के पक्ष में बोलती नज़र आती हैं.
कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हाल ही में अरुंधति रॉय ने कहा था, ”भारत कश्मीर में अगर 7 से 70 लाख सैनिक भी तैनात कर दे, तब भी कश्मीर में अपना लक्ष्य नहीं पा सकता.”
इस ट्वीट पर रावल की सोशल मीडिया पर आलोचना हो रही है. हालांकि इस मामले में परेश रावल जैसी सोच रखने वाले कुछ लोग इसे पंसद भी कर रहे हैं.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment