कश्मीरी पत्थरबाज को जीप से बांधने वाले मेजर गोगोई को सेना ने किया सम्मानित

दिल्ली

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने उस अधिकारी को प्रशंसा पत्र दिया है जिन्होंने एक कश्मीरी युवक को अपनी जीप से बांधकर पत्थरबाजों को करारा जवाब दिया था. सेना प्रमुख की इस कार्यवाही को सैन्य बलों में उत्साह का संचार करने की दिशा में उठाया गया एक सार्थक कदम माना जा रहा है.

बीती 9 अप्रैल को यह घटना सामने आई थी, इसमें बड़गाम में एक मेजर ने अपनी जीप के बोनट से कश्मीरी युवक को बांध दिया था. उस समय श्रीनगर संसदीय सीट के लिए उप चुनाव चल रहे थे.

बता दें कि मतदान का बहिष्कार करने के लिए स्थानीय लोग सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी कर रहे थे. सुरक्षा बल अपने हिसाब से पत्थरबाजों को जवाब देते रहे, लेकिन मेजर गोगोई ने एक अलहदा रास्ता अपनाया. उन्होंने पत्थरबाजी कर रहे एक युवक को अपनी जीप के बोनट से बांध दिया. इस कदम के बाद हुड़दंग कर रही भीड़ की हरकत कुछ देर के लिए थम गई.

हालांकि मेजर की इस हरकत का वीडियो किसी ने बना लिया, जिसके बाद यह पूरे देश में वायरल हो गया. मेजर 53 राष्ट्रीय रायफल में तैनात हैं, जबकि जीप से बांधा जाने वाला युवक फरुख अहमद डार बड़गाम का ही रहने वाला है.

राजनीतिक स्तर पर इस हरकत की निंदा भी की गई. सेना ने भी कोर्ट आफ इन्क्वायरी 15 अप्रैल को आर्डर कर दी. इसकी रिपोर्ट अभी तक लंबित है. उधर, पुलिस ने सुरक्षा बलों के खिलाफ इस मामले में केस भी दर्ज कर रखा है.

अगर-मगर के भंवर के बीच जब इस घटना को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म था तब सेना प्रमुख ने मेजर को प्रशंसा पत्र देकर एक तरह से उसकी कार्रवाई पर मुहर लगा दी.

माना जा रहा है कि घाटी में जिस तरह का माहौल बन पड़ा है उसमें अगर सुरक्षा बलों का हौसला कमजोर पड़ता है तो परेशानी ज्यादा बढ़ जाएंगी. उनके मनोबल को बढ़ाने की दिशा में यह क्रांतिकारी फैसला कहा जाएगा.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment