वित्त मंत्री अरुण जेटली बोले-GST से नागरिकों पर कम होगा टैक्स का बोझ

GST काउंसिल ने शुक्रवार को ज्यादातर सर्विसेस के लिए टैक्स रेट तय कर दिए. अरुण जेटली ने कहा, GST में एजुकेशन और हेल्थकेयर पहले जैसे ही टैक्स फ्री होंगी. रेल टिकट पर फर्क नहीं पड़ेगा. रेलवे के एसी टिकट को 5% टैक्स स्लैब में रखा गया है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इससे आम आदमी पर कोई बोझ नहीं बढ़ेगा. GST काउंसिल के चेयरमैन जेटली ने कहा, ‘सेवाओं पर GST लगने से टैक्स कलेक्शन बढ़ेगा, लेकिन महंगाई पर इसका कोई असर नहीं होगा।’ उन्होंने कहा कि नागरिकों पर इसका बोझ बढ़ने की बजाय कम होगा।

जेटली ने कहा कि काउंसिल का अजेंडा लगभग पूरा हो चुका है, गुड्स और सर्विसेज की दरें तय हो चुकी हैं, अब उम्मीद है कि 1 जुलाई से GST को लागू किया जा सकेगा. उन्होंने कहा, ‘GST लागू करने से जुड़ा ज्यादातर काम हो चुका है. कुछ ही चीजें तय करना बाकी है.

जीएसटी की अगली मीटिंग 3 जून को होगी. इस बैठक में ही सोने पर GST की दरों को तय किया जा सकता है. गुड्स पर जीएसटी काउंसिल ने 5%, 12%, 18% और 28% का रेट तय किया है.

Share With:
Rate This Article