धर्म के नाम पर ‌हिंसा बर्दाश्त नहीं होगी: CM वीरभद्र सिंह

रामपुर के सरकारी स्कूल में ईसाई समुदाय की मसीही महासत्संग प्रार्थना सभा के आयोजन को लेकर हुए बवाल पर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कड़ा संज्ञान लिया है. उन्होंने कहा कि हिमाचल में धर्म के नाम पर ऐसी घटनाएं कभी नहीं हुईं.

सीएम ने कहा कि धर्म के नाम पर हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. धर्मनिरपेक्ष राज्य में हर किसी को धर्म के प्रति आस्था रखने और प्रार्थना करने का अधिकार है, लेकिन सरकारी संस्थानों में धार्मिक आयोजन नहीं होने चाहिए.

उन्होंने कहा कि भविष्य में किसी भी सरकारी शिक्षण संस्थान में धार्मिक संस्थाओं के कार्यक्रम नहीं होंगे. ज्यूरी में रविवार को जनसभा में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि रामपुर स्कूल में देव संस्कृति मंच के कार्यकर्ताओं और भाजपा समर्थकों के जबरन प्रवेश और तोड़फोड़ करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. जब कार्यक्रम ही रद्द हो चुका था तो हंगामा करना गलत है.

धर्म परिवर्तन की बात पर सीएम ने कहा कि लालच देकर धर्म परिवर्तन कराना ठीक नहीं है. इसका व्यवसायीकरण नहीं होना चाहिए. अगर धर्म परिवर्तन में किसी तरह का वित्तीय लेनदेन है तो वह कानून की अवहेलना है.

अगर किसी को धर्म परिवर्तन के लिए समारोह आयोजित करना है तो एक सप्ताह पहले उपायुक्त से अनुमति लेनी होगी. किसी भी तरह के दबाव में धर्म परिवर्तन नहीं होना चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल देश का पहला राज्य है जिसने धर्म परिवर्तन को लेकर कानून बनाया और सख्ती से लागू किया.
 

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment