भारतीय IT सेक्‍टर में बड़े पैमाने पर छंटनी की खबरों को नैसकॉम ने बताया गलत

दिल्ली

उद्योग संगठन नैसकॉम ने भारतीय आईटी सेक्टर में बड़े पैमाने पर छंटनी की आशंका को खारिज कर दिया और दावा किया कि इंडस्ट्री अभी भी शुद्ध रूप से अच्छी खासी संख्या में लोगों को रोजगार दे रही है. सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेक्टर की कंपनियों के इस संगठन के अनुसार उद्योग शुद्ध रूप से हर साल 1.5 लाख से अधिक लोगों को रोजगार दे रहा है.

बड़े पैमाने पर छंटनी की रिपोर्ट को खारिज करते हुए नैसकॉम ने कहा कि उद्योग में प्रदर्शन मूल्यांकन एक नियमित प्रक्रिया है और वर्कफोर्स का पुनर्गठन उसी का हिस्सा है. उद्योग संगठन ने एक बयान में कहा, ‘कौशल और कार्यबल पुनर्गठन (स्किल ऐंड वर्कफोर्स रीस्ट्रक्चरिंग) अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए जरूरी है.’

गौरतलब है कि पिछले कुछ सप्ताह से क्षेत्र में छंटनी की खबरें सुर्खियां बन रही हैं. विप्रो, इन्फोसिस, कॉग्नीजेंट और टेक महिंद्रा जैसी बड़ी आईटी कंपनियों ने सालाना प्रदर्शन समीक्षा शुरू की है. इस प्रक्रिया का मकसद खराब प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को हटाना है.

ऐसा अनुमान है कि हजारों कर्मचारियों को अगले कुछ सप्ताह में कंपनी से निकाला जा सकता है. यह सब ऐसे समय हो रहा है जब भारतीय आईटी कंपनियां अमेरिका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया और न्यू जीलैंड जैसे देशों में कामकाजी वीजा नियमों में कड़ाई को लेकर चुनौतियों का सामना कर रही हैं.

Share With:
Rate This Article