साउथ एशिया सेटेलाइट GSAT-09 लॉन्च

इसरो ने जीसैट 9 लॉन्च किया । इसे श्रीहरिकोटा के स्पेस पोर्ट से जीएसएलवी-एफ09 रॉकेट के जरिए छोड़ा गया।

सैटेलाइट का वजन 2,195 किलोग्राम है, जो 12-केयू बैंड के ट्रांसपोडर्स लेकर गया है। इस मिशन को अगले 12 साल तक के लिए डिजाइन किया गया है। पहले इसका नाम ‘सार्क सैटेलाइट’ था, लेकिन पाकिस्तान के बाहर होने के बाद इसे साउथ ईस्ट सैटेलाइट नाम दिया गया।

इसे साउथ एशिया रीजन के डेवलपमेंट के लिए डिजाइन किया गया है। चूंकि, ये क्षेत्र आपदा संभावित है, इसलिए आपदा के समय ये सैटेलाइट इन देशो के बीच कम्युनिकेशन में मददगार होगा। इसके जरिए साउथ एशिया के इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट, टीवी ब्रॉडकास्टिंग, डिजास्टर मैनेजमेंट, टेली-मेडिसन और टेली-एजुकेशन को बढ़ावा मिलेगा।

इस सेटेलाइट के जरिये दक्षिण एशिया के इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट पर भी जोर दिया जाएगा। इसमें हिस्सा लेने वाले देशों को 12 साल तक 1500 मिलियन डॉलर देने होंगे। इसरो अधिकारियों के मुताबिक, मिशन में शामिल हर देश के पास 36 से 54 मेगाहर्ट्ज क्षमता का ट्रांसपोडर भेजने का अवसर है, जिसका इस्तेमाल वे आंतरिक इस्तेमाल के लिए कर सकते हैं।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment