FBI की जासूस ने उसी आतंकी से शादी कर ली जिसकी उसे जांच सौंपी गई थी

वॉशिंगटन

अमेरिकी खुफिया एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) की पूरी दुनिया में भारी किरकिरी हो रही है, क्योंकि उसके एक टॉप-सीक्रेट जासूस ने आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के उस आतंकी से शादी कर ली, जिसकी जांच के लिए एजेंसी ने उसे तैनात किया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एफबीआई की बागी हो चुकी जासूस डेनिएला ग्रीन 2014 में टॉप-सीक्रेट क्लियरेंस के बाद सीरिया गयी थी. उसका काम आतंकी डेनिस कसपर्ट उर्फ अबु ताल्हा अल-अलमानी की जांच करना था. डेनिस कसपर्ट जर्मनी का नागरिक है और आतंकी बनने से पहले वो एक रैपर था. अमेरिकी समाचार संस्था सीएनएन के अनुसार कसपर्ट इंटरनेट पर लोगों को आईएसआईएस से जोड़ता है और दो महाद्वीपों की पुलिस को उसकी तलाश है.

कसपर्ट ने एक गाने में मारे जा चुके आतंकी ओसामा बिन लादेन की तारीफ करते हुए तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का गला काटने की धमकी दी थी. एक प्रोपगैंडा वीडियो में कसपर्ट एक व्यक्ति के कटे हुए सिर के साथ नजर आया था. 38 वर्षीय ग्रीन ने सीरिया जाने से पहले एफबीआई से अपने गंतव्य के बारे में झूठ बोला. ग्रीन ने अपने नये पति को एफबीआई की जांच के बारे में आगाह भी कर दिया.

हालांकि, शादी के कुछ ही हफ्तों बाद ग्रीन को इस बात का अहसास हो गया कि उसने भारी भूल कर दी है और वो अमेरिका लौट आयी. उसे अमेरिका पहुंचते ही गिरफ्तार कर लिया गया. ग्रीन अमेरिकी अधिकारियों से सहयोग करने के लिए राजी हो गयी. ग्रीन ने अदालत में एक अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी के बारे में झूठ बोलने की बात मानी और उसे दो साल की सजा हुई. वो अपनी सजा काटकर पिछले साल रिहा हुई.

सीएनएन के अनुसार, अमेरिका की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली एफबीआई के लिए ये बहुत शर्मसार करने वाली घटना थी जिसे पहले कभी भी सार्वजनिक नहीं किया गया था. अमेरिकी मीडिया ग्रीन को मिली दो साल की सजा पर भी सवाल उठा रहा है. अमेरिका मीडिया में ग्रीन को “इतने बड़े अपराध” के लिए “इतनी मामलू सजा” के पीछे जानबूझकर दिखायी गई “नरमी” को वजह माना जा रहा है.

धाराप्रवाह जर्मन बोलने वाली ग्रीन एफबीआई में 2011 में भाषा विशेषज्ञ के तौर पर शामिल हुईं. ग्रीन को जनवरी 2014 में “एक जर्मन आतंकी” की जांच के लिए नियुक्त किया गया था. ग्रीन ने कसपर्ट की जांच के दौरान उसके कई ऑनलाइन अकाउंट और फोन नंबर की शिनाख्त की थी. अदालत के दस्तावेज के अनुसार ग्रीन ने कसपर्ट के दो स्काइप अकाउंट के बारे में भी बताया था. हालांकि कसपर्ट के एक तीसरे “स्काइप अकाउंट” की जानकारी उसने “अपने तक” महदूद रखी.

ग्रीन की जांच के दौरान ही अप्रैल 2014 में कसपर्ट ने पहली बार सार्वजनिक रूप से अपने आईएसआईएस और उसके प्रमुख अबु बकर अल-बगदादी से जुड़ाव की बात एक वीडियो से सार्वजनिक की थी. पहले से शादीशुदा ग्रीन ने 11 जून 2014 में विदेश जाने की अनुमति मांगी. ग्रीन ने अपनी यात्रा का मकसद छुट्टी/निजी बताया. उसने एफबीआई से कहा कि वो अपने माता-पिता से मिलने जर्मनी जा रही है. एक अगस्त 2014 को एफबीआई ने उसका गिरफ्तारी वारंट जारी किया. उसे आठ अगस्त 2014 को गिरफ्तार कर लिया गया था. वो करीब एक महीने सीरिया में रही थी.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment