सऊदी अरब ने दी ‘राजमाफी’, अब घर लौटेंगे वहां फंसे 20 हजार भारतीय

रियाद

सऊदी अरब में फंसे हजारों वर्कर्स सऊदी किंगडम की 90 दिनों की आम माफी स्कीम के तहत भारत लौटने वाले हैं. सऊदी में फंसे इन वर्कर्स में से कुछ लोग वहां अवैध रूप से गए थे तो कुछ लोग वीजा की अवधि समाप्त होने के बाद भी वहां रह रहे थे. इन वर्कर्स में बड़ी संख्या में तमिलनाडु के लोग हैं.

सऊदी अरब स्थित भारतीय दूतावास में तैनात काउंसिलर (कम्यूनिटी वेलफेयर) अनिल नौटियाल ने बताया 20,321 भारतीय ने आम माफी योजना के तहत घर लौटने के लिए सोमवार शाम तक आवेदन किया है. आम माफी स्कीम के तहत जो लोग देश लौट रहे हैं, उनमें 1,500 तमिलनाडु के उच्च पदों पर काम करने वाले वर्कर्स शामिल हैं. ज्यादातर वर्कर्स उत्तर प्रदेश और बिहार के हैं.

नौटियाल ने बताया कि सऊदी अरब सरकार ने उन भारतीय नागरिकों के लिए रियाद में एक खास केंद्र बनाया है, जो भारत वापस आना चाहते हैं. भारतीय दूतावास ने वहां अवैध रूप से रहने वाले भारतीय नागरिकों से आम माफी योजना का फायदा उठाने की अपील की है. 2013 में भी सऊदी सरकार ने इस तरह की योजना शुरू की थी लेकिन यह योजना सिर्फ रियाद और जेद्दाह शहरों में रहने वाले भारतीय नागरिकों के लिए ही थी. इस बार की योजना में सऊदी के 21 स्थानों को शामिल किया गया है.

नौटियाल ने बताया, ‘जिनलोगों ने भारत लौटने के लिए आवेदन दिया है, उनमें से ज्यादातर लोग उच्च पदों पर काम करने वाले वर्कर्स शामिल हैं, लेकिन वापस लौटने वाले लोगों की संख्या 2013 माफी योजना के समय लौटने वाले लोगों की संख्या से कम है क्योंकि कुछ परिवार जो वहां वीजा समाप्त होने के बाद रह रहे हैं, वापस भारत नहीं आना चाहते हैं.’

गौरतलब है कि सऊदी में काम के लिए जाने वाले कुछ लोगों को बहुत ही खराब परिस्थिति में काम करना पड़ता है.

नौटियाल ने बताया कि सऊदी अधिकारी आवेदकों को मुफ्त में पास और एग्जिट वीजा दे रहे हैं. आवेदकों को सिर्फ उड़ान का खर्च बर्दाश्त करना पड़ेगा.

Share With:
Rate This Article