विजय माल्या को भारत लाने की कवायद तेज, CBI और ED की टीम पहुंची लंदन

दिल्ली

बिजनेसमैन विजय माल्या पर शिकंजा कसने के लिए जांच एजेंसियों ने तैयारियां तेज कर दी हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई का चार सदस्ययी दल प्रत्यर्पण की कोशिशें तेज करने के लिए मंगलवार को लंदन पहुंच गया है. विजय माल्या पर भारतीय बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का लोन बकाया है. दोनों ही एजेंसियां अलग-अलग मामलों में विजय माल्या की जांच कर रही हैं.

18 अप्रैल को स्कॉटलैंड यार्ड ने विजय माल्या को तीन घंटे तक गिरफ्तार करके रखा था. इस दौरान उनसे पूछताछ की गई और फिर छोड़ दिया गया. फिलहाल वह अपने लंदन वाले घर में हैं. 61 साल के शराब कारोबारी विजय माल्या को वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश के बाद गिरफ्तार किया गया था. जमानत मिलने के बाद विजय माल्या ने ट्वीट में लिखा था, ‘मीडिया ने मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया, प्रत्यर्पण केस की सुनवाई आज से शुरू हो गई.’

विजय माल्या का नाम देश के बड़े बिजनेसमैनों में गिना जाता था. अब विजय माल्या पर बैंको का 9,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज है. कर्ज उगाही के लिए हाल ही में उनके एक बंगले की बिक्री भी हुई है. कर्ज न चुका पाने के लिए माल्या ने कहा था कि तेल के रेट बढ़ने, ज्यादा टैक्स और खराब इंजन के चलते उनकी किंगफिशर एयरलाइन्स को 6,107 करोड़ का घाटा उठाना पड़ा था. प्रीमियम सेवाओं के लिए जानी जाने वाली किंगफिशर एयरलाइंस की स्थापना वर्ष 2003 में हुई थी. इसके मालिक विजय माल्या थे.

Share With:
Rate This Article