प्रदूषण बाकी देश फैलाएं, पैसा हम दें अब ऐसा नहीं होगा- ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जल्द ही एकतरफा पेरिस जलवायु समझौते पर बड़े फैसले का वादा किया. उन्होंने आरोप लगाया कि अमेरिका से धन देने के लिए कहकर उसे अनुचित तरीके से निशाना बनाया जा रहा है जबकि रूस, चीन और भारत जैसे प्रदूषण करने वाले बड़े देश कुछ भी योगदान नहीं दे रहे हैं.

भारत, रूस, चीन नहीं देते पैसा
ट्रंप ने आरोप लगाया कि एकतरफा पेरिस जलवायु समझौते की तरह, जहां अमेरिका ने अरबों डालर दिये जबकि चीन, रूस और भारत योगदान करते हैं और लेकिन कोई योगदान नहीं करते. संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क संधि के तहत पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौते पर वर्ष 2015 में 194 देशों ने हस्ताक्षर किये और इसे 143 ने अनुमोदित किया. ट्रंप ने दावा किया कि अनुमान है कि समझौते के अनुपालन से अमेरिकी जीडीपी दस वर्ष में 2500 अरब डालर कमजोर हो जाएगी.

Share With:
Rate This Article