15 महीने बाद कोर्ट पर वापसी, बैन के बाद शारापोवा को हुआ 100 करोड़ का नुकसान

मॉस्को

डोपिंग के चलते 15 महीने के बैन के बाद बुधवार को टेनिस स्टार मारिया शारापोवा पोर्श ग्रां प्री टूनार्मेंट में वापसी कर रही हैं. वे पहले राउंड में इटली की रॉबर्टा विंसी से भिड़ेंगी. शारापोवा प्रतिबंधित ड्रग मेलडोनियम लेने की दोषी ठहराई गई थीं.

इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन ने पिछले साल उन्हें बैन किया था. बैन के कारण शारापोवा को 100 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है. इसके बावजूद अब भी उनकी नेटवर्थ करीब 1300 करोड़ रु. है.

15 महीने के बैन के दौरान नाइकी ने सबसे पहले शारापोवा से करार खत्म कर लिया था. इसके बाद कई बड़ी कंपनियां कॉन्ट्रैक्ट से बाहर हो गईं. इससे शारापोवा को करीब 100 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ.

इनमें से 25 करोड़ रुपए का नुकसान टूर्नामेंट न खेलने के कारण और बाकी 75 करोड़ रुपए का नुकसान नाइकी, टैग ह्यूअर, पोर्शे जैसी कंपनियों के साथ डील टूटने से हुआ. इस बीच नाइकी ने कहा है कि वह शारापोवा के साथ दोबारा डील कर सकता है. शारापोवा भी नाइकी स्पोर्ट्स वियर में प्रैक्टिस करती नजर आ रही हैं.

यहां पोर्श ग्रां प्री टूनार्मेंट में शारापोवा को वाइल्ड कार्ड एंट्री मिली है, जिसका अब विरोध होना भी शुरु हो गया है. पहले मैच में उनकी अपोनेंट रोबर्टा विंसी ने वाइल्डकार्ड पर आपत्ति जताते हुए इसे असम्मानजनक करार दिया है.

इससे पहले शारापोवा को वाइल्ड कार्ड एंट्री मिलने पर टॉप सीड कैरोलिन वोजनियास्की ने भी इसे असम्मानजनक कहा था. वहीं अब विंसी ने कहा, ‘मैं इस टूनार्मेंट में, रोम और अन्य किसी टूनार्मेंट में वाइल्ड कार्ड से प्रवेश मिलने पर सहमत नहीं हूं.

Share With:
Rate This Article