खेल नर्सरियों के नाम पर फर्जीवाड़े का ‘खेल’, विज ने रोका अनुदान

हरियाणा में खेल नर्सरियों के नाम पर लंबे समय से चलते आ रहे बड़े ‘खेल’ का भंडाफोड़ हुआ है। इसके बाद प्रदेश सरकार ने खेल नर्सरियों का अनुदान रोकते हुए सभी तरह के बिलों की अदायगी पर रोक लगा दी है। कई स्थानों पर तो ये नर्सरियां सिर्फ कागजों में चल रहीं थी। खेल मंत्री अनिल विज ने मामले में जांच के आदेश दिए हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के कार्यकाल के दौरान गांव स्तर पर खिलाड़ी तैयार करने के लिए खेल नर्सरियां बनाई गईं थी। खिलड़ियों की नई पौध को तैयार करने के लिए बाकायदा कोच सहित अन्य सुविधाओं की व्यवस्था भी की गई। इन खेल नर्सरियों का नियंत्रण जिला स्तर पर जिला खेल अधिकारी और ग्रामीण स्तर पर विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों के हवाले किया गया है।

अधिकतर नर्सरियों में खिलाडिय़ों की वास्तविक संख्या पर सवाल उठते रहे हैं। सरकारी स्तर पर बिलों की अदायगी और अनुदान जारी करने से पहले मुख्यालय द्वारा किसी तरह की जांच भी नहीं की जाती। जिला खेलकूद अधिकारियों को ही इस संबंध में अंतिम अधिकार दिए गए थे।

Share With:
Rate This Article