अधिवक्ता अधिनियम बिल के विरोध में हड़ताल पर 14 लाख वकील

देशभर के 14 लाख वकील विधि आयोग की सिफारिशों के खिलाफ शुक्रवार को आधे दिन का हड़ताल करेंगे।  इसके साथ ही सरकार को यह भी चेतावनी दी है कि यदि वकील विरोधी सिफारिशों को ख़ारिज नहीं किया गया तो इसके परिणाम दूरगामी होंगे. यही नहीं आंदोलन और तेज किया जायेगा.

बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्र ने यहां पत्रकारों से कहा कि विधि आयोग की सिफारिशों और वकील अधिनियम (संशोधन) विधेयक-2017 के खिलाफ देशभर में वकील शुक्रवार को भोजनावकाश के बाद अदालत के कामकाज से दूर रहेंगे। विधि आयोग की सिफारिशों में वकीलों द्वारा हड़ताल पर रोक लगाए जाने की बात कही गई है और हड़ताल करने पर उन पर जुर्माना लगाए जाने की भी सिफारिश की गई है। बीसीआई ने विधि आयोग की सिफारिशों को ‘कठोर, वकील विरोधी, असंवैधानिक, अलोकतांत्रिक और जन विरोधी’ करार दिया है। बीसीआई ने कहा,  विधि आयोग की सिफारिशें कानूनी पेशे और बार काउंसिल की आजादी के खिलाफ है।

मिश्र ने कहा कि यदि विधि आयोग की ‘वकील विरोधी सिफारिशों’ को सरकार खारिज नहीं करती है तो वकील दो मई को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पटियाला हाउस अदालत से राजघाट तक विरोध-रैली निकालेंगे। उसके बावजूद यदि स्थिति नहीं बदली तो बार काउंसिल और रैलियां निकालेगी और ‘जेल भरो’ आंदोलन शुरू करेगी।

Share With:
Rate This Article