तनाव के बीच नॉर्थ कोरिया ने किया मिसाइल परीक्षण, लेकिन हो गया नाकाम

सिओल

बीते शनिवार को अपनी सैन्य शक्ति का प्रदर्शन कर दुनिया को अपनी ताकत दिखाने वाले उत्तर कोरिया का रविवार का मिसाइल परीक्षण फेल हो गया. अमेरिका की पैसेफिक कमांड के अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने एक बयान में कहा, ‘उत्तर कोरिया ने सुबह सिनपो इलाके में एक अज्ञात मिसाइल लॉन्च करने का प्रयास किया, लेकिन यह संभवतः असफल रहा.’ शनिवार को हुई सैनिक परेड में उत्तर कोरिया ने लंबी रेंज की बलिस्टिक मिसाइल को भी प्रदर्शित किया था.

यह असफल परीक्षण ऐसे समय में हुआ है जब उत्तर कोरिया और अमेरिका एक दूसरे पर तीखे शब्दों से हमला बोल रहे हैं और दोनों देशों के बीच युद्ध की संभावनाएं जताई जा रही हैं. उत्तर कोरिया कह चुका है कि अगर उसे उकसाया गया तो वह अमेरिका पर परमाणु हमला कर सकता है. उसका दावा है कि उसने ऐसी मिसाइल विकसित कर ली है जो अमेरिका तक मार कर सकती है. इस संबंध में अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस कुछ दिनों के लिए दक्षिण कोरिया आए हुए हैं.

यूएस पैसेफिक कमांड ने कहा कि मिसाइल में तुरंत विस्फोट हो गया. कमांड ने कहा कि वह मिसाइल का विश्लेषण कर रही है. उपराष्ट्रपति पेंस इस असफल लॉन्चिंग को लेकर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के संपर्क में हैं. दक्षिण कोरिया की न्यूज एजेंसी ने बताया कि उसे एक अज्ञात सूत्र ने कहा कि मिसाइल अपने लॉन्चिंग बेस से ज्यादा दूर नहीं जा सका. उत्तर कोरिया ने अप्रैल में ही इसी जगह से एक बलिस्टिक मिसाइल को लॉन्च किया था.

इसी महीने सीरिया के एक सैन्य ठिकाने पर अमेरिकन नेवी द्वारा टॉमहॉक मिसाइल से हमला किए जाने के बाद उत्तर कोरिया को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप की योजना पर सवाल खड़े हो गए थे. उत्तर कोरिया ने अमेरिका को धमकी देते हुए संयुक्त राष्ट्र के नियमों का उल्लंघन कर कई मिसाइल और न्यूक्लियर परीक्षण किए थे. सिओल में क्युंगनम यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ फार ईस्टर्न में सेना विशेषज्ञ किम डोंग-युब ने बताया, ‘ऐसा लगता है कि पिछले परीक्षण के बाद आज का परीक्षण पहले से तय था.’

उन्होंने कहा, ‘यह लॉन्च नए या अप्रगेड हुए मिसाइल के लिए हो सकता है.’ उत्तर कोरिया के छठे न्यूक्लियर टेस्ट की संभावना या बलिस्टिक मिसाइल के परीक्षण की खबर के बाद यहां तनाव बढ़ गया था. वाइट हाउस का कहना है कि राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को ‘नोटिस’ में लिया है. 7 अगस्त को सीरिया पर किए हमले के बाद प्योंगयांग पर ऐक्शन लेने को लेकर तनाव बढ़ गया है.

Share With:
Rate This Article