पत्थरबाजी के लिए कश्मीरी युवाओं को कैशलेस फंडिंग कर रहा है पाकिस्तान

दिल्ली

एक न्यूज चैनल ने अपने स्टिंग में पाकिस्तान को लेकर बड़ा खुलासा किया है. इस स्टिंग में पता चला है कि पाकिस्तान कश्मीर के पत्थरबाजों को कैशलेस फंडिंग कर रहा है. न्यूज चैनल ने खुफिया सूत्रों के हवाले से दावा किया कि पाकिस्तान इन पत्थरबाजों को पैसा देने के लिए उसी वस्तु विनिमय प्रणाली का सहारा ले रहा है, जिसके जरिए लोग पहले व्यापार करते थे.

वस्तु विनिमय प्रणाली में लोग एक सामान के बदले उसी कीमत के दूसरी सामान को लेते-देते हैं. कई ट्रक अक्सर पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के मुजफ्फराबाद से श्रीनगर में सामान लेकर आते जाते हैं. इन्हीं ट्रकों पर लदे सामान के जरिए पाकिस्तान कश्मीर के पत्थरबाजों को पैसा देता है. जैसे मुजफ्फराबाद से जो ट्रक आता है उस पर मान लीजिए कि पांच लाख का सामान है. अब जब ये वापस श्रीनगर से मुजफ्फराबाद लौटेगा तो उस पर सामान 2 लाख का होगा. इस तरह बाकी बचा 3 लाख श्रीनगर में पत्थरबाजों तक पहुंच जाएगा.

दूसरी ओर सेना की जीप पर बंधे एक कश्मीरी युवक का विडियो वायरल होने के बाद दो अन्य विडियो भी खूब चल रहे हैं. इनमें से एक विडियो में सेना के जवान सेना की गाड़ी में कथित तौर पर युवकों की पिटाई करते और उन्हें पाकिस्तान विरोधी नारे लगाने को मजबूर करते दिख रहे हैं. कश्मीर में सुरक्षाबलों पर मानवाधिकार उल्लंघनों के आरोप लगते रहे हैं.

दूसरे विडियो में सेना के चार जवान पुलवामा डिग्री कॉलेज के एक छात्र को कथित तौर पर जमीन पर गिराकर बेंत से उसकी पिटाई करते दिख रहे हैं. ये विडियो किसने बनाए हैं यह पता नहीं चल पाया है.

Share With:
Rate This Article