सऊदी के नागरिकों को नहीं देना होगा इनकम टैक्स

सऊदी अरब के वित्त मंत्री मोहम्मद अल जदान ने रविवार को कहा कि सऊदी निवासी अब कमाई पर कोई टैक्स नहीं देंगे। इतना ही नहीं, देश के बड़े आर्थिक सुधारों के तहत अब सऊदी कंपनियों को भी उनके मुनाफे पर कोई टैक्स नहीं देना होगा। साल 2014 के मध्य से तेल की कीमतों में गिरावट की वजह से सऊदी अरब को अर्थव्यवस्था के हरेक हिस्से में क्रांतिकारी बदलाव लाने की जरूरत पड़ी। इनमें नई कर व्यवस्था, निजीकरण एवं निवेश की नई रणनीति और सरकारी खर्चों में भारी-भरकम कटौती जैसे बड़े कदम शामिल हैं।

सऊदी अरब की सरकारी न्यूज एजेंसी एसपीए ने सऊदी वित्त मंत्री के बयान के हवाले से कहा कि लोग अब इस चिंता से मुक्त हो जाएं कि महत्वाकांक्षी सुधार योजना के तहत उन पर टैक्स लगाया जाएगा। सऊदी अब भी इनकम टैक्स नहीं देते हैं और न ही सऊदी अरब की कंपनियां हीं अपने मुनाफे पर टैक्स देती हैं।

वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि साल 2018 के लिए वैल्यू-ऐडेड टैक्स (वैट) लगाने की योजना है जो साल 2020 से पहले 5 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होगा।

गल्फ कोऑपरेशन काउंसिल का छह अरब राजतंत्र तेल से इतर राजस्व उगाही के लिए अगले पांच साल के लिए 5% वैट लगाने का मन बना रहा है। लेकिन, इनमें से कुछ देशों के अर्थशास्त्रियों और अधिकारियों का कहना है कि निजी तौर पर इसे सभी देशों में एक साथ लागू कर पाना संभव नहीं होगा। इसकी वजह टैक्स वसूलने के लिए प्रशासनिक ढांचा खड़ा करने की जटिलताएं और कंपनियों को नियम पालन का प्रशिक्षण देने की मुश्किलें हैं।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment